Saturday, 9 November 2019

कैंसर कोशिकायें जब दिमाग में पहुंच जाये

मस्तिष्क का मेटास्टैसिस शरीर के अन्य हिस्से में उत्पन्न होने वाली कैंसर कोशिकाओं से उत्पन्न होने वाला बे्रन ट्यूमर है। कैंसर की जांच एवं चिकित्सा की नवीनतम तकनीकों के विकास के कारण  कैंसर मरीजों के अधिक दिनों तक जीवित रहने की संभावना बढ़ने से मस्तिष्क मेटास्टैसिस की समस्या बढ़ रही है। लेकिन गामा नाइफ तकनीक की बदौलत अब मस्तिष्क मेटास्टैसिस के इलाज में क्रांति आ गयी है। गामा नाइफ तकनीक नयी दिल्ली के विद्यासागर मानसिक स्वास्थ्य एवं स्नायु संस्थान (विमहांस) स्थित गामा नाइफ सेंटर के अलावा देश के गिने-चुने चिकित्सा संस्थान में उपलब्ध है। 
विशेषज्ञों के अनुसार मस्तिष्क मेटास्टैसिस आम तौर पर फेफड़े, स्तन, गुदा और गुर्दा के कैंसर के कारण उत्पन्न होता है। इस अवस्था में मस्तिष्क के किसी खास क्षेत्र के हिस्से में वृद्धि होने लगती है। मस्तिष्क मेटास्टैसिस के ट्यूमर के बढ़ने या उसमें सूजन आने से या तो मस्तिष्क के भीतर (इंट्राक्रैनियल) दबाव बढ़ जाता है या मस्तिष्क की कार्यशीलता में बाधा आती है।  कई बार इस दबाव के कारण सेरेेेब्रल स्पाइनल फ्ल्यूड के रास्ते में अवरोध उत्पन्न होने से मस्तिष्क में पानी भरने (हाइड्रोसिफेलस) जैसी समस्या पैदा होती है। तकरीबन दो-तिहाई मामलों में इसके लक्षण कभी भी प्रकट हो सकते हैं। इसके मरीजों में सिर दर्द, जी मिचलाने, उल्टी, आलस्य और सोचने की शक्ति में हा्रस जैसे लक्षण पैदा होते हैं। रोग के और गंभीर होने पर दौरा पड़ने, कमजोरी, चाल एवं आवाज में गड़बड़ी और स्पष्ट दिखाई नहीं देने जैसी समस्याएं बढ़ जाती हैं। मस्तिष्क मेटास्टैसिस के पांच से दस प्रतिशत रोगियों में अन्य गंभीर लक्षण भी पैदा हो सकते हैं। मेटास्टैसिस के तीन से 14 प्रतिशत रोगियों में ट्यूमर के भीतर रक्तस्राव (हैमरेज) हो सकता है। ऐसा आम तौर पर मेलानोमा, कोरियोकारसिनोमा,  गुर्दा, थायराइड, फेफड़े, स्तन और जर्म कोशिकाओं के ट्यूमर में होता है। अधिकतर मेटास्टैसिस गोलाकार घाव की तरह होते हैं। मेटास्टैसिस धमनियों और नसों के माध्यम से रक्त संवहन के द्वारा मस्तिष्क तक फैलते हैं। धमनी के रक्त मस्तिष्क में जाने से पहले फेफड़े में जाते हैं। फेफड़े के प्रारंभिक अवस्था के ट्यूमर कोशिकाओं के बड़े समूह केशिकाओं के द्वारा छन जाते हैं लेकिन बहुत से इंबोली धमनियों के द्वारा मस्तिष्क तक पहुंच जाते हैं। लेकिन फिर भी अकेली ट्यूमर कोशिकाएं फेफड़े की केशिकाओं के माध्यम से चली जाती हैं और बड़े ट्यूमर इंबोली नसों से हृदय के दायें और बांये आलिंद के बीच के रंध्रों के जरिये धमनियों में प्रवेश कर जाते हैं।
ब्रेन मेटास्टैसिस का पता एम.आर.आई. जांच से चलता है। इससे अत्यंत छोटे मेटास्टैसिस ट्यूमर और उसके स्थान का भी पता चल जाता है जिससे ट्यूमर के आपरेेशन करने में सहूलियत होती है। 
मस्तिष्क के मेटास्टैसिस में अन्य कैंसर की तुलना में अस्वस्थता, विकलांगता और मृत्यु दर कहीं अधिक है। अन्य कैंसर की तुलना में इसकी सर्जरी भी अधिक कठिन है क्योंकि इससे मरीज को मानसिक और शारीरिक कमजोरी आने की आशंका होती है। लेकिन प्रारंभिक अवस्था में ही इसकी पहचान और इलाज करके इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है और रोगी को अधिक लंबी और बेहतर जिंदगी दी जा सकती है।
मौजूदा समय में रेडियो तरंगों पर आधारित गामा नाइफ जैसी तकनीकों के इस्तेमाल की बदौलत अब ट्यूमर का इलाज कष्ट रहित एवं आसान हो गया है। गामा नाइफ की मदद से आॅपरेशन के बाद बचे हुये ट्यूमर को भी हटाया जा सकता है। साथ ही इसकी मदद से मस्तिष्क में गहराई में स्थित ट्यूमर का इलाज किया जा सकता है क्योंकि शल्य क्रिया की मदद से उस ट्यूमर तक पहुंचना कई बार संभव नहीं होता है। 
गामा नाइफ में रेडियो तरंगें एक साथ कई स्रोतों से डाली जाती है। इसे मस्तिष्क में एक हेलमेट की तरह पहना दिया जाता है जिसके विभिन्न स्रोतों से गामा-नाइफ निकलने वाली किरणें ट्यूमर पर डाली जाती हैं। ये कैंसर कोशिकाओं को मार देती हैं। इससे 90 से 100 प्रतिशत मस्तिष्क मेटास्टैसिस का इलाज संभव है। मस्तिष्क में अधिक मेटास्टैसिस होने पर इसका इलाज पुरानी पद्धति के रेडियोथेरेपी से करने पर मरीज के मंदबुद्धि होने या याददाश्त कम होने की आशंका होती है। इससे दिमागी सूजन भी आ सकती है। लेकिन गामा नाइफ से कई ट्यूमरों का एक साथ इलाज करने पर ऐसी कोई समस्या नहीं आती है। जापान के कुछ विशेषज्ञों ने गामा नाइफ के द्वारा एक ही समय में 50 से 60 मस्तिष्क मेटास्टैसिस का इलाज किया है।
गामा नाइफ विशेषज्ञों के अनुसार गामा नाइफ एक तरह का न्यूरोसर्जिकल यंत्र है। मस्तिष्क के आपरेशन में सामान्य तौर पर धातु या प्लास्टिक के औजारों से या लेजर की किरणों से मस्तिष्क के प्रभावित हिस्सों को काटा जाता है, लेकिन गामा नाइफ में किसी धातु या प्लास्टिक के औजारों के बगैर ही गामा किरणों की मदद से मस्तिष्क के प्रभावित हिस्से को काटा जाता है।
आज मस्तिष्क के ट्यूमर के इलाज में गामा नाइफ का व्यापक इस्तेमाल होने का कारण यह है कि परम्परागत आपरेशन के दौरान रक्त स्त्राव होने, मस्तिष्क के सामान्य हिस्सों को क्षति पहुंचने, आपरेशन के बाद मस्तिष्क के भीतर ट्यूमर के छूट जाने या ट्यूूमर के साथ-साथ मस्तिष्क के और भी हिस्सों को स्थायी क्षति पहुंचने जैसे कई दुष्प्रभाव होते हैं। हालांकि अब परम्परागत आपरेशन के दौरान माइक्रोस्कोप का इस्तेमाल शुरू होने के कारण मस्तिष्क में बहुत छोटा सा छेद करके ही गहराई में आपरेशन किया जा सकता है, परंतु इसमें भी ऐसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं। 
गामा नाइफ से आपरेशन करने के दौरान मरीज को बेहोश नहीं करना पड़ता। मरीज की चमड़ी को सुन्न करके मस्तिष्क पर धातु का एक फ्रेम (स्टीरियोटेक्टिक फ्रेम) कसा जाता है और इसके ऊपर विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक बाॅक्स लगाए जाते हैं। इसके बाद एम.आर.आई., सी.टी.स्कैन या एंजियोग्राम किया जाता है और इन तस्वीरों को कम्प्यूटर में डाल दिया जाता है। इस दौरान मरीज पूरे होश में रहता है। वह बात भी कर सकता है और सब कुछ देख-सुन सकता है। जब कम्प्यूटर के अंदर सारी तस्वीरें पहुंच जाती हैं तो उसका विश्लेषण करके यह पता किया जाता है कि आपरेशन करने के स्थान के आस-पास कोई ऐसी चीज तो नहीं है जिसमें किरणें जाने से उसे क्षति पहुंचे। इन सब बातोें को ध्यान में रखते हुए प्लानिंग की जाती है और तत्पश्चात विकिरण दिया जाता है। 
इसके लिए रोगी को मात्र 48 घंटे ही अस्पताल में भर्ती रहना पड़ता है। जिस दिन रोगी को भर्ती किया जाता है, उस दिन उसका सिर्फ निरीक्षण ही किया जाता हैै। अगले दिन सुबह इलाज शुरू होता है जो शाम तक खत्म हो जाता है। इसके बाद रोगी आराम करता है और अगले दिन वह घर जा सकता है। यही नहीं वह उसी दिन से काम पर भी लौट सकता है। - 


 


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home