Monday, 11 November 2019

मधुमेह से बचाता है सुबह का नाश्ता

अगरव्यस्त जीवनशैली में मधुमेह से दूर रहना है तो, सुबह का नाश्ता जरूर करें। सुबह का नाश्ता करने से मधुमेह होने की संभावना कम होती है। अगर आपकी दिनचर्या में सुबह का नाश्ता शामिल है तो आपको मधुमेह जैसी खतरनाक बीमारी होने की गुंजाइश कम होगी। इसके अलावा सुबह का नाश्ता करने से दिमाग तेज होता है और तनाव समाप्त होता है। हेल्दी ब्रेकफास्ट करने से हम दिनभर शारीरिक और मानसिक रूप से ज्यादा सक्रिय रहते हैं। 
जो लोग खाली पेट घर से बाहर निकल जाते हैं वे मोटापा, पेट पर चर्बी बढने और कोलेस्ट्रॉल बढने के शिकार हो सकते हैं। ये तीनों कारक डायबिटीज बढाने के जोखिम कारक हैं। इतना ही नहीं खाली पेट से खून में इंसुलिन का स्तर भी बढ़ जाता है जिससे व्यक्ति को डायबिटीज होने की संभावना बढ़ जाती है। जिन लोगों में बचपन में नाश्ता करके घर से बाहर निकलने की आदत बडे होने पर बनी रहती है, उनमें डायबिटीज का खतरा कम होता है। सुबह हेल्दी ब्रेकफास्ट करके घर से निकलने से शरीर तो स्वस्थ रहता ही है साथ ही मधुमेह का खतरा भी कम होता है। 
सुबह के नाश्ते न करने से डायबिटीज होने का कारण
क्योंकि सुबह-सुबह खाली पेट घर से निकलने से शरीर में कोलेस्ट्राल की मात्रा बढती है, जिससे वसा की मात्रा प्रभावित होती है आदमी का वजन बढता है। मोटापा मधुमेह का सबसे बडा कारण है। खाली पेट होने से रक्त में इंसुलिन की मात्रा बढती है जिससे डायबिटीज होता है। इसके अलावा सुबह-सुबह नाश्ता कर लेने से आप बाहर का खाद्य-पदार्थ खाने से बच जाते हैं।
सुबह के नाश्ते के फायदे 
- सुबह का नाश्ता करने से तनाव का स्तर कम होता है और आदमी दिन भर मानसिक और शारीरिक रूप से ज्यादा सक्रिय रहता है।
- हेल्दी ब्रेकफास्ट करने से मोटापा नहीं बढता है। जिसके कारण शरीर स्वस्थ रहता है।
- सुबह नाश्ता करने का आदमी के दिमाग पर सकारात्मक असर पड़ता है और व्यक्ति की याद्दाश्त बढती है।
- सुबह नाश्ता करने से खून का संचार सही ढंग से होता है जिससे दिल की बीमारियां नहीं होती हैं।
- ब्रेकफास्ट करने से मेटाबॉलिक स्तर में सुधार आता है।
सुबह नाश्ते में क्या खाएं 
- सुबह का नाश्ता हेल्दी होना चाहिए इस बात का ध्यान रखें। नाश्ते में फल और आटे के ब्रेड खाया जा सकता है।
- ब्रेकफास्ट में ओट मिल्क लेना भी आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है।
- उबला अंडा सुबह के नाश्ते के लिए बहुत अच्छा होता है।
- ताजे और मौसमी फलों को सुबह के नाश्ते में शामिल कीजिए। इसके अलावा जूस भी नाश्ते में ले सकते हैं।
- टाइप-1 डायबिटीज युवाओं और बुजुर्गों को ही नहीं बल्कि छोटे से बच्चे को भी हो सकता है। इसलिए मधुमेह के खतरे को कम करने के लिए बच्चों को भी सुबह के नाश्ते की आदत डालिए। सुबह-सुबह ब्रेकफास्ट करने से दिनचर्या नियमित होती है जिसके कारण कई बीमारियों से बचाव होता है। अपने डाइट-प्लान के लिए आप अपने चिकित्सक से संपर्क कर सकते हैं।


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home