Monday, 25 November 2019

पिता को दिल का दौरा पड़ा हो तो क्या बेटे को भी दिल का दौरा पड़ सकता है ?

सवाल-  मेरे पिता की उम्र 57 साल है। उन्हें दूसरी बार दिल का दौरा पड़ा है। मेरी उम्र 34 साल है और मेरा वजन थोड़ा अधिक है। क्या मुझे भी दिल का दौरा पड सकता है? मुझे दिल के दौरे से बचने के लिये क्या करना चाहिये? मुझे दिल का दौरा पड़ सकता है या नहीं  - इसका पता लगाने के लिए क्या मुझे विशेष जांच कराने चाहिये ? - रितेश शर्मा, मयूर विहार, फेज- दो, नई दिल्ली


डा. पुरूषोत्तम लाल के जवाब जो मैट्रो हास्पीट्ल्स एंड हार्ट इंस्टीच्यूट, नोएडा के निदेशक और मुख्य कार्डियोलॉजिस्ट हैं। 



कोरोनरी हृदय रोग के लिये पारिवारिक इतिहास महत्वपूर्ण रिस्क फैक्टर होता है। उस व्यक्ति की रक्त धमनियों में रक्त के थक्के बनने की बहुत अधिक आशंका होती है जिसके माता-पिता में से किसी एक को 60 वर्ष की उम्र से पहले कोरोनरी हृदय रोग हुआ हो। आपकी उम्र 34 साल है इसलिए आप हृदय को स्वस्थ रखने वाली जीवन शैली अपनाएं और हृदय की बीमारियों की जांच के लिए समय-समय पर स्क्रिनिंग करवाते रहें। इसके लिए आप हर साल ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर, कोलेस्ट्राॅल आदि की जांच करायें। इन जांचों में कुछ गड़बड़ी आने पर आपको कुछ और जांच करानी होगी। इसके अलावा आप शारीरिक रूप से सक्रिय रहें, हृदय को स्वस्थ रखने वाले आहार का सेवन करें, तम्बाकू उत्पादों का सेवन नहीं करें और धूम्रपान करने वाले लोगों के संपर्क में नहीं रहेें और अपने वजन को संतुलित रखें। चूंकि आपके पारिवार में हृदय रोग का इतिहास है, इसलिए आपके डाॅक्टर  हृदय रोग के शुरुआती लक्षण या बिना कोई लक्षण वाले हृदय रोग का पता लगाने के लिए कैरोटिड अल्ट्रासाउंड या हृदय की स्कैनिंग जैसी कुछ सामान्य जांच कराने की सलाह दे सकते हैं। यह भी जानना आवश्यक है कि आपके पारिवारिक इतिहास होने के बावजूद आप हृदय को स्वस्थ रखने वाली जीवन शैली अपनाकर और उचित समय पर इसकी पहचान कर और रिस्क फैक्टर को नियंत्रण में रखकर हृदय रोग की आशंका कम कर सकते हैं। 



No comments:

Post a Comment