सर्दियों में दिल के दौरे से बचें

तापमान में अब काफी कमी आ गई है और अब लंबे समय तक सर्दी रहने वाली है इसलिए अब सर्दी का सामना करने के लिए हमें पूरी तरह से तैयार रहना चाहिए। तापमान में धीरे—धीरे कमी आने आने के साथ हीए हृदय रोग विशेषज्ञों ने दिल के रोगियों को सतर्क रहने की सलाह दी है क्योंकि सर्दियों में हृदय की समस्याओं और दिल के दौरे में वृद्धि हो जाती है। 
क्यूआरजी हेल्थ सिटीए फरीदाबाद के कार्डियोलाॅजी के निदेशक डॉ. राकेश राय सपरा ने कहा, ''ठंड का मौसम हृदय संबंधी समस्याओं के खतरे को बढ़ा देता है। तापमान में गिरावट आने से हृदय रोगों और उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगियों के लिए खतरा बढ़ जाता है।''
अत्यधिक ठंड के मौसम में रोगी का स्वास्थ्य और खराब हो जाता है, इसलिए पहले से ही कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे रोगियों को ठंड के मौसम में मौत से बचने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। विशेष रूप से अधिक उम्र वाले लोगों को अतिरिक्त सावधान रहने की आवश्यकता है। ठंडा मौसम आपके लिए वैसी परिस्थितियां पैदा कर सकता है जिसके कारण आपके दिल को अधिक मेहनत करना पड़ता हैए जिसके परिणाम स्वरूप आपके दिल को अधिक ऑक्सीजन युक्त रक्त की जरूरत होती है। यदि किसी बीमारी के कारण आपको दिल की रक्त वाहिकाओं संकीर्ण हो गई होंए तो इससे आपके दिल में ऑक्सीजन की कम आपूर्ति हो सकती है जबकि दिल के दौरे से बचने के लिए आपके दिल को अधिक आक्सीजन की जरूरत पड़ती है।
डॉ. सपरा कहते हैं, ''सर्दियों के दौरान शरीर की गर्मी को बनाए रखने के लिए दिल को तेजी से पंप करने की जरूरत होती है और धमनियां कड़ी हो जाती हैै जिससे रक्तचाप बढ़ जाता है जिससे हृदय पर काम का बोझ बढ़ जाता है। रोगियों को नियमित रूप से अपने रक्तचाप पर निगरानी रखनी चाहिए और रक्त चाप को नियंत्रित रखने के लिए नियमित रूप से दवाइयां लेनी चाहिए।ष्ष् अप्रिय मौसम में व्यायाम से बचना चाहिए और सुबह और देर शाम की बजायए दोपहर में सैर करनी चाहिए। लोगों को तैलीयध्तला हुआ भोजन कम सेवन करना चाहिए और काजू और मूंगफली जैसे ड्राई फ्रूट का भी कम सेवन करना चाहिए। खुद को गर्म रखने के लिए सूपए हाॅट चॉकलेट और दालचीनी और अदरक वाली चाय का सेवन करें।''


Comments