ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म

ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म क्या है?
ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म शरीर (महाधमनी) को रक्त की आपूर्ति करने वाली प्रमुख नाड़ी के निचले हिस्से में होने वाला उभार है। महाधमनी (आओर्टा) हमारे हृदय से हमारी छाती और पेट के बीच से होकर गुजरती है और यह शरीर की सबसे बड़ी रक्त वाहिका है। ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म के फट जाने पर यह घातक साबित हो सकता है। महाधमनी का इलाज एन्यूरिज्म के आकार और इसके बढ़ने की गति के आधार पर निर्भर करता है।
ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म के कुछ सामान्य लक्षण
ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म अक्सर धीरे-धीरे बढ़ते हैं और कोई लक्षण प्रकट नहीं करते हैं, जिसके कारण उनका पता लगाना काफी मुश्किल हो जाता है। कुछ एन्यूरिज्म कभी भी फटते नहीं हैं। लेकिन, यदि आपको ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म है और वह बढ़ रहा है, तो आप निम्न लक्षण महसूस कर सकते हैं:
— आपके पेट के अंदर या बगल में लगातार तेज दर्द
— कमर दर्द
— आपकी नाभि के करीब धड़कन महसूस होना
कारण और जोखिम कारक
ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म के विकास के लिए कई कारक जिम्मेदार हो सकते हैं:
● धमनियों का सख्त होना (एथेरोस्क्लेरोसिस): जब रक्त वाहिका की लाइनिंग पर वसा और अन्य पदार्थ जमा हो जाते हैं।
● उच्च रक्तचाप महाधमनी की दीवारों को नुकसान पहुंचाता है और कमजोर करता है।
● रक्त वाहिका संबंधी रोगों के कारण रक्त वाहिकाओं में सूजन हो जाती है।
● ट्रामा भी ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म पैदा कर सकता है।
जोखिम कारक
● तम्बाकू का सेवन। जितना अधिक समय तक आप धूम्रपान करते हैं या तंबाकू चबाते हैं, ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म होने की संभावना उतनी ही अधिक होती है।
● उम्र। एन्यूरिज्म 65 से अधिक उम्र के लोगों में सबसे अधिक होता है।
● पुरुष होना। पुरुषों में महिलाओं की तुलना में ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म अधिक होते हैं।
● पारिवारिक इतिहास। ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म के पारिवारिक इतिहास होने से यह बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।
● अन्य एन्यूरिज्म। घुटने के पीछे महाधमनी या छाती में महाधमनी जैसी अन्य बड़ी रक्त वाहिका में एन्यूरिज्म होने पर ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म होने का खतरा बढ़ सकता है।
निदान और उपचार
निदान: ऐब्डामनल आओर्टिक एन्यूरिज्म का पता आम तौर पर अन्य कारण से जांच के दौरान या हृदय या पेट के अल्ट्रासाउंड जैसे नियमित चिकित्सा परीक्षणों के दौरान चलता है। डॉक्टर आपके चिकित्सीय और पारिवारिक इतिहास के बारे में जानकारी लेंगे और शारीरिक परीक्षण करेंगे। इसके अलावा, इसकी पुष्टि करने के लिए कुछ विशेष परीक्षण भी किये जा सकते हैं:
● पेट का अल्ट्रासाउंड
● सीटी स्कैन
● एमआरआई
उपचार: उपचार का लक्ष्य - एन्यूरिज्म को फटने से रोकने के लिए या तो दवा से इलाज किया जाता है या सर्जरी की जाती हैै। आपका इलाज आओर्टिक एन्यूरिज्म के आकार और यह कितनी तेजी से बढ़ रहा है, इस पर निर्भर करता है। लेकिन इसके लिए आपको निरंतर चिकित्सीय देखरेख में रखने की आवश्यकता होगी।
● सर्जरी - सर्जरी की सलाह आम तौर पर तब दी जाती है जब आपका एन्यूरिज्म 1.9 से 2.2 इंच (4.8 से 5.6 सेंटीमीटर) या इससे बड़ा हो या तेजी से बढ़ रहा हो।
● ओपन एब्डॉमिनल सर्जरी - इसमें एक महीने में पूरी रिकवरी होने की संभावना होती है। हालांकि एंडोवैस्कुलर रिपेयर अधिक बार करने की जरूरत पड़ती है। डॉक्टर एक पतली ट्यूब (कैथेटर) के अंत में एक सिंथेटिक ग्राफ्ट लगाते हैं और उसे आपके पैर की धमनी के माध्यम से आपकी महाधमनी तक ले जाते हैं।
● ग्राफ्ट - धातु की जाली से कवर की गई एक वुवेन ट्यूब को एन्यूरिज्म की जगह पर रखा जाता है, उसे फैलाया जाता है और वहां चिपका दिया जाता है जो महाधमनी के कमजोर हिस्से को मजबूत करता है और फटने से रोकता है।
सर्जरी के बाद, आपको यह सुनिश्चित करने के लिए नियमित इमेजिंग परीक्षण कराने की आवश्यकता होगी कि रिपेयर लीक तो नहीं हो रही है।
महत्वपूर्ण जानकारी
जटिलताएं
महाधमनी की दीवार की एक या एक से अधिक परतों में टूट-फूट (महाधमनी विच्छेदन) या एन्यूरिज्म के फटने जैसी जटिलताएं हो सकती हैं। आपके आओर्टिक एन्यूरिज्म के फटने के निम्न लक्षण हो सकते हैं:
● पेट या कमर में अचानक, तीव्र और लगातार दर्द, जिसे टियरिंग सेंसेषन कहा जा सकता है
● निम्न रक्तचाप
● नाड़ी का तेज चलना
आओर्टिक एन्यूरिज्म उस क्षेत्र में रक्त के थक्के बनने के जोखिम को भी बढ़ाता है। यदि रक्त का थक्का एन्यूरिज्म की अंदर की दीवार से ढीला हो जाता है और आपके शरीर में कहीं भी रक्त वाहिका को अवरुद्ध करता है, तो इसके कारण दर्द हो सकता है या पैर, पैर की उंगलियों, गुर्दे या पेट के अंगों में रक्त प्रवाह को अवरुद्ध कर सकता है।
रोकथाम
आओर्टिक एन्यूरिज्म को रोकने के लिए या आओर्टिक एन्यूरिज्म को और गंभीर होने से रोकने के लिए, आपको निम्न बातों का पालन करना चाहिए:
● धूम्रपान या तंबाकू चबाने से परहेज करना
● स्वस्थ आहार का सेवन करना
● अपने रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखना
● नियमित व्यायाम करना
● आपके डॉक्टर आपको भारी सामान उठाने और कठिन शारीरिक गतिविधि से बचने की सलाह देंगे
● संघर्षपूर्ण और तनावपूर्ण स्थितियों से बचें।


Comments