Monday, 11 November 2019

ब्लड शुगर में रखें सावधानी

खाने-पीने में लापरवाही बरतने से कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं झेलनी पड़ सकती हैं। आजकल के व्यस्त जीवन शैली में लोग हेल्दी फूड से ज्यादा जंक फूड की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। लेकिन वे यह भूल जाते हैं कि यह खाना उनके अंदर कई तरह की बीमारियों को बढ़ा सकता है, जिसमें से ब्लड शुगर एक है। काम के दबाव और दिनभर भागदौड़ करते रहने के कारण लोग अपने खाने पर ध्यान नहीं देते हैं। ऐसे में रक्त में शर्करा का संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है। रक्त में शर्करा की मात्रा संतुलित नहीं होने से मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा वजन बढ़ना, चिड़चिड़ापन, अवसाद, चक्कर आना, सिरदर्द, मांसपेशियों में ऐंठन आदि बीमारियों का भी खतरा रहता है। 
ब्लड शुगर के बढ़ने से शरीर पर होने वाले प्रभाव
त्वचा पर प्रभाव - ब्लड शुगर में शरीर से तरल पदार्थ निकलने लगता है जिससे त्वचा शुष्क हो जाती है और इसमें खुजली होने लगती है। कभी-कभी तो शरीर पर लाल निशान भी दिखने लगते हैं। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए जिससे शरीर में तरल पदार्थ की कमी ना हो।
पैरों पर प्रभाव - हाई ब्लड शुगर में रक्त प्रवाह में कमी आने के कारण इसका असर पैर पर भी होता है। नर्वस सिस्टम में गड़बड़ी आ जाने के कारण पैरों में दर्द, सूजन और पैर सुन्न होने की समस्या हो जाती है। अगर इसका सही समय पर उपचार नहीं कराया गया तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।
आंखों पर प्रभाव - ब्लड शुगर की समस्या होने पर आंखों की रोशनी धुंधली और कमजोर होने लगती है। इसे हल्के में लेने पर रोगी अंधा भी हो सकता है। हाई ब्लड शुगर से आंखों का रेटिना प्रभावित होता है, जो देखी जाने वाली वस्तु की इमेज को आकार देता है।
नवर्स सिस्टम पर प्रभाव - ब्लड शुगर का पूरे शरीर में रक्त वाहिनियों पर प्रभाव पड़ता है। नर्वस सिस्टम कमजोर होने पर शरीर के किसी भी अंग तक पोषक तत्व और ऑक्सीजन की सप्लाई ठीक से नहीं हो पाती।
ब्लड शुगर से बचने के उपाय 
- ब्लड शुगर से बचने के लिए संतुलित भोजन बहुत जरूरी है। इसलिए बाहर के खाने की जगह घर पर बना खाना खाएं। 
- ब्लड शुगर से बचने के लिए घर में बना दलिया लेना सर्वोत्तम है। साथ ही दिन में तीन-तीन घंटे के अंतराल से हल्का भोजन लेना चाहिए। 
- चॉकलेट, चाय, कॉफी या डिब्बा बंद जूस हमेशा खाने के बाद ही पीना चाहिए। इससे ब्लड शुगर काफी हद तक रोका जा सकता है।
- ब्लड शुगर से बचने के लिए नियमित जांच जरूरी है। इसलिए 18 वर्ष की उम्र से ही लोग ब्लड शुगर की जांच करवाना शुरू कर दें। आप चाहें तो घर पर भी मशीन रखकर ब्लड शुगर की जांच कर सकते हैं।


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home