Friday, 29 November 2019

डेंगू से बचने के लिए क्या करें

डेंगू एक वायरल बीमारी है जो मच्छर काटने से फैलती है। यह उसी मच्छर 'एडीज' से होती है, जो चिकनगुनिया और ज़िका वायरस फैलाता है। इसे पहले उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की बीमारी माना जाता था लेकिन अब यह दुनिया भर में 100 से अधिक देशों में व्यापक है। ज्यादातर लोग इस बीमारी से पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं लेकिन कुछ लोगों में गंभीर लक्षण विकसित हो सकते हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने की आवश्यकता हो सकती है।


डेंगू के हल्के प्रकार में पहला और प्रमुख लक्षण तेज बुखार है जो 5 से 7 दिनों तक रहता है। इससे संबंधित लक्षणों में सिरदर्द, दाने, हड्डी और जोड़ों में दर्द, आंखों के पीछे दर्द, बेचैनी और थकान शामिल हो सकती है। डेंगू का एक अधिक गंभीर रूप हेमोरेजिक फीवर होता है जो इसके हल्के रूप की तरह ही शुरू होता है लेकिन इसके लक्षण तेजी से विकसित होते हैं। इसके लक्षणों में नाक से खून आना, त्वचा के नीचे रक्तस्राव के लक्षण शामिल हो सकते हैं, जिसे चिकित्सकीय रूप से पेटेचिया कहा जाता है। डेंगू का सबसे गंभीर रूप डेंगू शॉक सिंड्रोम कहलाता है। यह तेज पेट दर्द, आत्मविस्मृति, भारी रक्तस्राव जैसे लक्षणों से शुरू होता है, जिससे रक्तचाप में अचानक गिरावट आती है जिससे रोगी सदमे में चला जाता है। डेंगू का यह रूप खतरनाक हो सकता है और रोगी को अस्पताल में भर्ती कराने की आवश्यकता होती है।


डेंगू के प्रसार को रोकने के लिए कई चीजें हैं, इनमें शामिल हैं-


ऽ विशेष रूप से दिन के दौरान, त्वचा के खुले हिस्सों को कवर करना


ऽ मोस्क्युटो रिपेलेंट, मोस्क्युटो कॉयल और मच्छरदानी का इस्तेमाल


ऽ सभी प्रकार के स्थिर पानी को बदलना या निकालना


 


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home