गर्भवती महिलाओं को स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है

स्ट्रोक युवा महिलाओं को लंबे समय तक अक्षम बनाने वाले सबसे आम कारणों में से एक है जो वैस्कुलर कारण से मस्तिश्क के अचानक काम नहीं करने के कारण होता है। सभी मातृ मृत्यु में से 12 प्रतिशत मृत्यु से अधिक के लिए स्ट्रोक ही जिम्मेदार होता है। हालांकि असामान्य रूप से, स्ट्रोक अधिक विनाशकारी होता है जब यह किसी युवा गर्भवती महिला में होता है जो अपना परिवार शुरू करने की कोशिश कर रही होती है। यह भी देखा गया है कि प्रसव से संबंधित 89 प्रतिषत स्ट्रोक या तो प्रसव या प्रसव के बाद होता है। स्ट्रोक के कुछ सामान्य लक्षणों में चेहरे का लटकना, हाथ / पैर में कमजोरी या सुन्न होना, बोलने में कठिनाई, या बहुत तेज सिरदर्द आदि शामिल हो सकते हैं। उच्च रक्तचाप स्ट्रोक के लिए नंबर एक जोखिम कारक है, और इसका रोकथाम संभव है। उच्च रक्तचाप रहित महिलाओं की तुलना में, उच्च रक्तचाप से पीड़ित महिलाओं में गर्भावस्था अधिक जटिल होती है और उनमें स्ट्रोक होने की संभावना छह से नौ गुना अधिक होती है।
गर्भावस्था से संबंधित स्ट्रोक के लिए कई अन्य जोखिम कारक भी जिम्मेदार होते हैं जिनमें 35 साल से अधिक उम्र में गर्भधारण, हृदय रोग, धूम्रपान, मधुमेह, माइग्रेन, शराब और मादक पदार्थों का इस्तेमाल, सीजेरियन डिलीवरी, फ्ल्यूड तथा इलेक्ट्रोलाइट डिसआर्डर, कई बार गर्भ धारण करना आदि शामिल हैं। युवा महिलाओं में अधिक मोटापा होने पर भी गर्भवती महिलाओं में स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। ऐसा माना जाता है कि स्ट्रोक का सबसे अधिक खतरा आमतौर पर प्रसव के दौरान या प्रसव के तुरत बाद होता है। ऐसा गर्भावस्था से लेकर गर्भावस्था के बाद रक्त प्रवाह में बदलाव के साथ-साथ रक्त के थक्के की बढ़ती प्रवृत्ति के कारण होता है।
धूम्रपान
स्ट्रोक के लिए कई संभावित जोखिम कारक हैं, जिनमें से एक मुख्य जोखिम कारक धूम्रपान है। धूम्रपान रक्त के थक्के बनने और धमनी में अवरोध के खतरे को बढ़ाता है। इन दोनों खतरों का संबंध स्ट्रोक से है। धूम्रपान रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को कम कर देता है, जिसके कारण स्ट्रोक होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। जब आपके खून में कम ऑक्सीजन होता है, तो आपके दिल को शरीर में रक्त को पंप करने के लिए धूम्रपान नहीं करने वाले लोगों की तुलना में कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।
धूम्रपान से खून के थक्के भी बनने की संभावना अधिक होती है और आपके धमनियों में प्लाक बिल्डअप की मात्रा बढ़ जाती है। रक्त के थक्के और बढ़ी हुई प्लेक का संयोजन स्ट्रोक होने के लिए सही स्थितियां हैं।
आपके मस्तिष्क की ओर जाने वाली धमनियों को धूम्रपान से क्षति पहुंचने का अधिक खतरा होता है। चूंकि ये धमनियां संकुचित और कड़ी होती हैं, इसलिए आपके मस्तिष्क में पर्याप्त रक्त प्रवाह असंभव हो सकता है और एन्यूरिज्म होने के लिए सही परिस्थितियां पैदा हो जाती हैं। धूम्रपान छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है, जिसके कारण उनके फटने की अधिक संभावना होती है।
— स्ट्रोक को रोकने में मदद के लिए जीवन शैली में बदलाव लाएं।
— नमक का सेवन कम करें। अपने भोजन में अलग से नमक न लें और संसाधित खाद्य पदार्थ के सेवन से बचें जिनमें बहुत अधिक नमक होता है।
— हर दिन अपने भोजन में कम से कम पांच हिस्सा फल और सब्जियों का रखें।
— यदि आपको वजन कम करने की आवश्यकता हो तो वजन कम करें।
— वसा का सेवन सीमित मात्रा में करें।
— अपने खान-पान में चीनी की मात्रा सीमित करें।
— धूम्रपान छोड़ दें।
— शराब का सेवन कम करें और बिंज ड्रिंकिंग से बचें।
— अधिक सक्रिय रहें।
— अपने तनाव के स्तर को कम करें और आराम करने के लिए समय निकालें।


Comments