Friday, 29 November 2019

कार्बन डाइऑक्साइड लेजर: एंडोमेट्रियोसिस की नवीनतम शल्य चिकित्सा

एंडोमेट्रियोसिस वैसी स्थिति है जो महिला के प्रजनन अंगों को प्रभावित करती है। यह आपके गर्भाशय के अंदर सामान्य रूप से लाइनिंग बनाने वाले ऊतक - एंडोमेट्रियम के गर्भाशय के बाहर बढ़ने के कारण होता है। अनुमान के अनुसार, यह 10 में से एक महिला को उनके प्रजनन सालों (यानी आम तौर पर 15 से 49 वर्ष की उम्र के बीच) के दौरान प्रभावित करता है।  
लक्षण
एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों में कष्टदायक माहवारी, कष्टदायक अंडोत्सर्ग, शारीरिक संपर्क के दौरान या बाद में दर्द, भारी रक्तस्राव और क्रोनिक पैल्विक दर्द शामिल है जो सामान्य शारीरिक, मानसिक और सामाजिक स्थिति को प्रभावित कर सकता है। एंडोमेट्रियोसिस से पीड़ित महिलाओं को शारीरिक संपर्क के दौरान या बाद में दर्द भी हो सकता है। एंडोमेट्रियोसिस से पीड़ित महिला को इसके कारण लगातार थकावट रह सकती है और शौच के समय असुविधा अनुभव कर सकती हैं।
इनफर्टिलिटी के कारण
एंडोमेट्रियोसिस कभी-कभी, फैलोपियन ट्यूब या अंडाशय को भी नुकसान पहुंचा सकता है और प्रजनन संबंधित समस्याएं पैदा कर सकता है। यह महिला इनफर्टिलिटी के दर्ज किये गये सबसे उच्चतम कारणों में से एक है। इनफर्टिलिटी से पीड़ित करीब 30 प्रतिशत महिलाओं में यह पाया जाता है। अन्य जटिलताओं में कष्टदायक ओवरी सिस्ट और एडहीषन षामिल हैं। एडहीशन ऊतक के वैसे क्षेत्रों को कहते हैं जो अंगों को एक साथ जोड़ते हैं। 
जांच 
एंडोमेट्रियोसिस की पहचान होने में सालों का समय लग सकता है और यह इन समस्याओं के कारण पर निर्भर करता है। जब तक इसकी पहचान नहीं हो पाती है, तब तक कई महिलाएं अपने दर्द को झेलती रहती हैं क्योंकि उनका मानना है कि दर्द - यहां तक कि वास्तव में तेज दर्द - उनके मासिक धर्म की अवधि का एक सामान्य हिस्सा है।
जांच एवं उपचार
एंडोमेट्रियोसिस है या नहीं यह सुनिश्चित करने के लिए जेनरल एनीस्थिसिया के तहत एक लेप्रोस्कोपी प्रक्रिया की जाती है। एंडोमेट्रियोसिस पाये जाने पर आपके चिकित्सक वहां मौजूद किसी भी बड़े पैच का उसी समय इलाज करने के लिए आपकी सहमति मांगते हैं। इसके तहत दो लैप्रोस्कोपी - एक डायग्नोस के लिए और एक इलाज के लिए करने की बजाय एक ही लैप्रोस्कोपी में डायग्नोसिस और इलाज दोनों हो जाता है।
उपचार का मुख्य उद्देश्य दर्द और भारी रक्तस्राव जैसे लक्षणों में सुधार करना और यदि प्रजनन क्षमता प्रभावित हुई हो तो उसमें सुधार करना है।
नवीनतम उपचार
एंडोमेट्रियोसिस के शल्य चिकित्सा उपचार के क्षेत्र में एक बड़ी प्रगति कार्बन डाइऑक्साइड (सीओ 2) लेजर का इस्तेमाल है जिसका इस्तेमाल लेप्रोस्कोपी सर्जरी के साथ किया जा सकता है। यह तकनीक बहुत अलग है और इससे वहाँ के आसपास के ऊतकों को अनजाने में होने वाले नुकसान का बहुत कम खतरा होता है। एंडोमेट्रियोसिस के अधिक जटिल मामलों में जिस तरह से वृद्धि हुई है, यह तकनीक मूत्रवाहिनी, आंत्र या आसपास के अन्य अंगों और गर्भ धारण में मदद करने वाले अंगों में होने वाली इंजुरी की रोकथाम करने वाली सर्जरी के खतरे को कम करेगी।


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home