Friday, 29 November 2019

कैंसर और मूत्र रोगों की चिकित्सा के क्षेत्र में रोबोटिक सर्जरी की हुई शुरूआत 

कैंसर एवं मूत्र रोगों के इलाज के लिए भारत में रोबोटिक सर्जरी की शुरूआत हो गई है। भारत के कुछ बड़े अस्पतालों में शुरू हुई दा विंची सर्जिकल सिस्टम मिनिमली इनवेसिव या लैप्रोस्कोपिक (छोटा सा चीरा) सर्जरी की अगली पीढ़ी के रूप में प्रदर्शन करने में मदद करेगा और इस प्रकार, शल्य चिकित्सा प्रक्रियाएं पारंपरिक ओपन सर्जरी से कम कश्टदायी और परिपूर्ण हो जाएंगी। 
रोबोटिक सर्जरी में शरीर को कम तकलीफ होती है, अस्पताल में कम समय तक रहने की जरूरत पड़ती है, कम खर्च आता है, रक्त का कम नुकसान होता है, बहुत कम निशान रहता है और बहुत कम परेशानी होती है। आज की गई घोषणा से ओपन सर्जरी कराने के डर, दबाव और एंग्जाइटी से ग्रस्त हजारों रोगियों और उनके प्रियजनों को राहत मिलेगी। 
सभी जटिल मूत्र संबंधी रिकंस्ट्रक्टिव कैंसर सर्जरी रोबोट से की जा सकती है। यहां तक कि किडनी टीएक्स जैसी कम्प्लाई सर्जरी भी रोबोट से की जाती है। रोबोट सर्जरी, सर्जरी के सबसे उन्नत रूपों में से एक है जिसका आज चिकित्सा क्षेत्र में तेजी से इस्तेमाल किया जाने लगा है। इससे सर्जन का कौषल बढ़ता है, चिकित्सा खर्च में कमी आती है, सौंदर्य और काॅस्मेटिक दृश्टि से लाभदायक है और इसके अन्य लाभ भी हैं, इसलिए यह मरीजों और चिकित्सकों दोनों के लिए फायदेमंद है।
अत्याधुनिक दा विंची सर्जिकल रोबोट, रोबोट प्रौद्योगिकी का उपयोग कर छोटे चीरों के माध्यम से जटिल मूत्रविज्ञान सर्जरी करने में सर्जन को सक्षम बनाता है। शल्य रोबोट स्वयं से संचालित, कंप्यूटर से नियंत्रित होने वाला उपकरण है जिसे सर्जिकल उपकरणों की स्थिति और मैनीपुलेषन में सहायता करने के लिए प्रोग्राम किया जा सकता है। रोबोट के हाथों में अत्यधिक निपुणता होती है और यह सर्जन को षरीर के बहुत तंग जगहों में भी आॅपरेषन करने में सक्षम बनाता है जहां सिर्फ ओपन (लंबा चीरा) सर्जरी के माध्यम से ही पहुंचना संभव है। यह शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं के क्षेत्र में एक जबरदस्त विकास का प्रतिनिधित्व करेगा।
मैक्स इंस्टिट्यूट ऑफ ओंकोलाॅजी के अध्यक्ष डॉ. हरित चतुर्वेदी ने अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के बारे में कहा, ''ओपन सर्जरी में कई घंटे लगते हैं, अस्पताल में अधिक समय तक रहना पड़ता है, रक्त की अधिक हानि होती है और काफी दर्द होता है और इनके अलावा कई अन्य असुविधाएँ भी होती हैं, लेकिन दा विंची सर्जिकल प्रणाली इन सभी चीजों को बदल देगी। रोबोट की मदद से की जाने वाली सर्जरी परम्परागत तकनीकों की तुलना में चिकित्सकों को बेहतर परिशुद्धता, लचीलापन और नियंत्रण के साथ सर्जरी करने में सक्षम बनाती है। वास्तव में, इस तकनीक के इजाद होने से अब जटिल सर्जरी विशेष रूप से थोरेसिक, यूरोलॉजी, सिर और गर्दन, पेट और स्त्री से संबंधित कैंसर की सर्जरी आसान हो जाएगी।''
रोबोटिक सर्जरी के लाभ
रोबोट सर्जरी, ओपन सर्जरी की तुलना में रोगियों को कई लाभ प्रदान करता है:
अस्पताल में कम समय तक भर्ती रहना
कम दर्द और परेशानी
तेजी से रिकवरी होना और जल्द ही सामान्य कामकाज करने में सक्षम होना
छोटे चीरों के कारण संक्रमण का खतरा कम होना
रक्त का कम नुकसान होना और रक्त चढ़ाने की नौबत कम आना
घाव के बहुत कम निशान रहना


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home