Monday, 25 November 2019

महिलाओं में यौन समस्याएं एवं उनका उपचार

प्यार, स्नेह और सेक्स जीवन के महत्वपूर्ण पहलू हैं लेकिन सेक्स क्रिया के साथ कई तरह की जोखिम और कई बार स्वास्थ्य समस्याएं भी जुड़ी हैं। इन समस्याओं में कुछ प्रमुख समस्याएं हैं: महिलाओं में चरमउत्कर्श तक पहुंचने में कठिनाई, यौन इच्छा की कमी, दर्दनाक यौन संबंध, यौन संचारित रोग, योनि खून का रिसाव आदि। ये यौन समस्याएं परेषानी का कारण बनती हैं। ये न केवल आपके सेक्स जीवन पर ग्रहण लगाती हैं बल्कि पति-पत्नी के बीच के संबंधों को भी बुरी तरह प्रभावित करती हैं। 
1.यौन इच्छा का अभाव 
युवा महिलाओं मंें यौन इच्छा का अभाव बहुत ही सामान्य समस्या है। इस समस्या से 20 से 24 साल की 10 प्रतिषत से अधिक महिलाएं जबकि 25 से 29 वर्श की करीब 20 प्रतिषत महिलाएं ग्रस्त हैं। हालांकि यह समस्या 50 से 60 साल की महिलाओं में बहुत अधिक व्याप्त है। 
महिलाओं में सेक्स की कम इच्छा होने के लिए कई कारण जिम्मेदार हैं जिनमें कामकाज के कारण होने वाली थकान, मनोवैज्ञानिक समस्याएं, षारीरिक बनावट को लेकर चिंताएं, रिष्ते की कड़बाहट, जन्म नियंत्रण और डिप्रेषन रोधी दवाइयां आदि प्रमुख हैं। यह जरूरी है कि आप अपने जीवन से जुड़े उन सभी कारणों पर विचार करें जो आपकी यौन इच्छा को प्रभावित कर सकते हैं ताकि आप अपने स्तर पर हीया मान्यता प्राप्त चिकित्सक से मदद से समस्या का समाधान कर सकें। 
2.लुब्रिकेषन संबंधित समस्याएं 
16 से लेकर 49 वर्श की उम्र के बीच लुब्रिकेषन संबंधी दिक्कतें समान रूप से आम है। रजोनिवृत्ति और हार्माेनल परिवर्तन के बाद, यह समस्या बहुत अधिक बढ़ जाती है। लुब्रिकेषन से संबंधित समस्या होने के कारण यौन संबंध असुविधाजनक या कश्टपूर्ण हो जाते हैं। इसलिए यह समस्या ऐसी नहीं है कि आप इसकी अनदेखी करें। योनि में सूखापन कई कारणों से हो सकती है जैसे डिहाइड्रेषन, दवाइयां, नर्सिंग या रजोनिवृत्ति के दौरान हार्माेन के स्तर में बदलाव आदि। इस समस्या के लिए अलग से लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करना एक अच्छा समाधान है। 
3. संभोग में कठिनाइयाँ
जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ जाती है, वैसे-वैसे उन्हें अपने पति के साथ सामंजस्य स्थापित होता जाता है और उन्हें पति के साथ अधिक स्वछंद एवं आष्वस्त हो जाती है और उन्हें अपने यौन संबंध के बारे में पूरी जानकारी हो जाती है। इससे यौन उत्सर्ग पर पहुंचने में आसानी होती है। 
4. दर्दनाक सेक्स
दर्दनाक सेक्स, या डिस्पेर्यूनिया का संबंध इसी तरह की उम्र में संभोग सुख प्राप्त करने में होने वाली दिक्कत से है। यह समस्या 16 से 19 साल की महिलाओं में अधिक होती है जबकि 30 से 40 साल की उम्र की महिलाओं में यह कम होती है। जब महिलाएं 50 साल की हो जाती है तो यह समस्या दोबारा अधिक हो जाती है और इसका कारण उम्र बढ़ने के कारण होने वाले हार्मोन में बदलाव एवं रजोनिवृति है। 
डिस्पेर्यूनिया को संभोग के दौरान योनि, क्लिटोरिस या लैबिया में होने वाले दर्द के रूप में परिभाषित किया जाता है। यह अधिक जटिल सेक्स संबंधी समस्याओं में से एक है। विषेशज्ञों का कहना है कि यह समस्या योनि में सूखापन से लेकर मानसिक परेषानी जैसे कारणों से हो सकती है। 
आपके एवं आपके पार्टनर के लिए कम सेक्स इच्छा बहुत ही परेषानी पैदा कर सकती है। अगर आप अपनी इच्छी के अनुसार सेक्सी या रोमांटिक होने में असमर्थ हैं या आप इसके आदि हो चुके हैं तो यह आपको दुखी एवं निराष हो सकते हैं। साथ ही साथ कम सेक्स इच्छा के कारण आपके पार्टनर अस्वीकृत महसूस कर सकते हैं और यह पारिवारिक जीवन में टकराव एवं झगड़े का कारण बन सकती है। रिष्तों में आने वाली हर तरह की कड़वाहट के कारण सेक्स की इच्छा और कम हो सकती है। हालांकि यह याद रखना चाहिए कि हर रिष्ते तथा जीवन की हर स्थिति में सेक्स की इच्छा में उतार-चढ़ाव सामान्य है। इसलिए आप अपना पूरा ध्यान सेक्स पर ही केन्द्रित नहीं करें। इसके बजाय आप अपने आप को तथा अपने रिष्ते को विकसित करने के लिए भी थोड़ा समय लगाएं। 
लंबी सैर के लिए जाएं। थोड़ी अधिक निद्रा लें। घर से बाहर निकलने के समय अपने पार्टनर को किस करते हुए गुडबाय कहें। पसंदीदा रेस्तरां में रात का डिनर करें। अपने आप तथा अपने पार्टनर के बारे में अच्छा महसूस करें। इन सबसे यौन क्रिया आनंददायक बन सकती है। 
जो पति-पत्नी खुले रूप से, ईमानदार तरीके से संवाद करना सीखते हैं, वे आम तौर पर एक मजबूत भावनात्मक संबंध बनाए रखते हैं, जिससे सेक्स संबंध बेहतर हो सकता है। सेक्स के बारे में संवाद भी महत्वपूर्ण है। अपनी पसन्द और नापसंदियों के बारे में बात करते हुए आप अधिक यौन अंतरंगता के लिए बढ़ सकते हैं। 


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home