Friday, 8 November 2019

पार्टियों के लिए कैसा हो परिधान 

हर किसी की तमन्ना होती है कि जहां कहीं भी जायें लोगों की नजरों में छा जायें  और पार्टियों की शान बन जायें । इस तमन्ना को पूरा करने के लिये कई महिलायें घर से बाहर निकलने के लिये खास तौर पर पार्टियों के लिये भड़कीले अथवा स्टाइलिश कपड़े का चुनाव करती हैं। लेकिन इस चक्कर में कई महिलायें पार्टियों में मजाक का पात्र बन जाती हैं।


कैसा हो परिधान


आकर्षक दिखना काफी हद तक परिधान पर निर्भर करता है। खास तौर पर महिलाओं के लिए यह सबसे ज्यादा ध्यान रखने वाली बात है कि वह क्या, कब और किस तरह के परिधान पहनती है।


फैशन उद्योग में नित नए परिधान प्रस्तुत किए जाते हैं जो रैम्प पर चलने वाली मॉडलों के तन पर आकर्षक भी लगते हैं। लेकिन जो कपड़े मॉडलों ने रैम्प पर पहने हैं क्या वह आपके बदन पर भी उतने ही अच्छे लगेंगे, इसमें संदेह है। किसी भी तरह के स्टाइलिश या फैशनेबल कपड़ों का चुनाव करते समय यह अवश्य ध्यान दें कि फिल्मों और पत्रिकाओं में दिखने वाली तारिकाओं ने जो कपड़े पहने हैं उनमें और आपमें काफी अंतर है। यह अंतर तारिकाओं और आपकी सुंदरता का नहीं बल्कि उनके माहौल, स्थिति और उद्देश्य का है। लेकिन कुछ महिलाएं इस अंतर को नहीं समझ पातीं और स्टाइलिश तथा फैशनेबल दिखने की होड़ में लोगों के मजाक का कारण बन जाती हैं।


गरिमा के अनुरूप  हो पोशाक


जमाने के अनुरूप  कपड़े पहनना अच्छी बात है और नए-नए फैशन का प्रयोग करना भी गलत नहीं, लेकिन ऐसा करते समय आप माहौल, अवसर, रंग-रूप और अपनी उम्र की गरिमा का ख्याल अवश्य रखें। आप किसी भी उम्र या वर्ग की हों आपको केवल इतना ख्याल रखना है कि आपका परिधान कहीं अजीबोगरीब तो नहीं लग रहा।


कोई महिला क्या पहनती है, यह उसका व्यक्तिगत मामला हो सकता है लेकिन महज दिखावे के लिए किसी परिधान का चुनाव करना समझदारी नहीं  है। आपके द्वारा पहना गया परिधान आपको आरामदायक तो लगना ही चाहिए, साथ ही वह अवसर के मुताबिक भी होना चाहिए। ऐसे कपड़ों से जितना हो सके परहेज करना चाहिए जिनमें बदन ढकता कम और दिखता ज्यादा है। बड़ी उम्र की महिलाओं पर किसी शादी या पार्टी में साड़ी या सलवार-कमीज काफी   गरिमामय लगती है।


परिधान कहीं फूहड़ न हो


कुछ युवतियों की नजर में केवल उनका पहनावा ही उनकी सैक्स अपील होता है। वे सैक्स अपील का सही अर्थ जाने बिना स्वयं पर तरह-तरह के प्रयोग कर डालती हैं। कई बार इसका परिणाम बुरा भी हो सकता है। सैक्स अपील को लेकर हमारे समाज में बहस छिड़ जाए तो ज्यादातर लोग इसे अश्लीलता और फूहड़ता कहेंगे। वास्तव में सैक्स अपील किसी महिला के शारीरिक आकर्षण के साथ-साथ उसकी बौद्धिक क्षमता से जुड़ा होता है। बुद्धि से परिपूर्ण स्त्री ही सैक्स अपीलिंग होती है।


जरूरी  है व्यवहार कुशलता


कई बार कुछ युवतियों या महिलाओं के बारे में सुना जाता है कि वह जब तक मुंह नहीं खोलतीं तब तक सुंदर दिखती हैं। कौवे और कोयल का फर्क भी आवाज से ही पता लगता है। कहने का तात्पर्य यह है कि महिला कपड़े चाहे फैशनेबल पहने या सामान्य साड़ी में ही क्यों न लिपटी हो, यदि वे कपड़े सही तरीके से सही अवसर पर पहने गए हों और इसके साथ महिला अपना आत्मविश्वास से भरा व्यवहार जोड़ दे तो वह सबका मन मोह सकती है।


सही मेकअप


आकर्षक दिखने के लिए जरूरी  नहीं है कि आप पाश्चात्य और बेढब स्टाइलिश कपड़े ही पहनें बल्कि विशुद्ध भारतीय परिधानों और सादगी में भी गजब का आकर्षण होता है। कपड़े पहनते समय यदि आप अवसर और अपने मेकअप का भी ख्याल रखें तो आपकी सुंदरता चार गुना बढ़ जाती है। मेकअप में सिर्फ इस बात का ध्यान रखें कि आंखों पर बहुत ज्यादा मेकअप न हो। आई शैडो को रंग चुनते समय सावधानी बरतें। हालांकि आप लिपस्टिक जरूर गहरे रंग की लगा सकती हैं। हेयर स्टाइल आप मन माफिक या ड्रेस के हिसाब से कर सकती हैं।


सादगी का जादू


सादगी का भी अपना सौंदर्य होता है लेकिन सादगी का मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आप मेकअप न करें या महंगे कपड़े न पहनें। लेकिन यह अवसर के मुताबिक होना चाहिए। जैसे किसी के बच्चे का जन्मदिन, नामकरण या पूजा-हवन जैसे अवसरों पर आप जरी, जरदोजी या बनारसी साड़ी पहन कर जाएं तो यह बेढब लगेगा। अपने घर के शादी-ब्याह के अवसरों पर आप जैसे चाहें सज-संवर सकती हैं। सहेलियों की शादी में भी कुछ नए स्टाइल अपना सकती हैं लेकिन दूर के रिश्तेदारों, आस-पड़ोस या सामान्य परिचितों के यहां पार्टी में जाने के लिए फैशन के अभूतपूर्व अथवा अजीबोगरीब स्टाइल न अपनाएं। कपड़ों में नयापन जरूर हो लेकिन असामान्य न लगे। यदि आप किसी पार्टी में जा रही हैं तो पहले ही पार्टी के ड्रेस कोड के बारे में दरियाफ्त कर लें। ऐसा  न हो कि आप किसी बड़ी फॉरमल पार्टी में कैजुअल ड्रेस में पहुंच जाएं। अपनी ड्रेस के हिसाब से जेवर और पर्स का चुनाव करें। किसी भी ड्रेस के साथ इन दो चीजों का ख्याल न रखने से ड्रेस की खूबसूरती कम हो जाती है। कई बार समझदारी से पहने गए गहने सादी से सादी पोशाक की खूबसूरती को भी काफी उभार देते हैं। इन सब बातों का ख्याल रखने पर आप फिल्मों में नजर आने वाली तारिकाओं या रैम्प पर चहलकदमी करती मॉडलों से कहीं ज्यादा सुंदर और आकर्षक नजर आएंगी। इसके अलावा आपके आस-पास के लोगों से आपको अपनी तारीफ बोनस में मिलेगी।


 


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home