Thursday, 7 November 2019

पेट का माइग्रेन (ऐब्डामनल माइग्रेन) क्या है?

पेट के माइग्रेन (ऐब्डामनल माइग्रेन) में बार- बार पेट दर्द और उल्टी होती है जो आम तौर पर 2 से 10 वर्ष की आयु के बच्चों में होती है। हालांकि यह वयस्कों में भी हो सकता है। ये लक्षण आम तौर पर एक घंटे से तीन दिनों तक रह सकते हैं। ये लक्षण हफ्तों या महीनों तक प्रकट नहीं हो सकते हैं और फिर से शुरू हो जा सकते हैं। समय के साथ, ये लक्षण आम तौर पर अपने आप खत्म हो जाते हैं। हालांकि, जिन बच्चों में पेट का माइग्रेन (ऐब्डामनल माइग्रेन) होता है, उन्हें वयस्क होने पर माइग्रेन सिरदर्द होने की अधिक संभावना होती है।
पेट के माइग्रेन (ऐब्डामनल माइग्रेन) के कुछ सामान्य लक्षण
— दर्द या तकलीफ
— थकान
— चक्कर आना
— मतली या उल्टी
निदान और उपचार
निदान - पेट के माइग्रेन के लिए कोई जांच नहीं है। डॉक्टर लक्षणों के आधार पर बीमारी की पहचान करते हैं। चूंकि पेट के माइग्रेन के लक्षण अन्य बीमारियों के समान होते हैं, इसलिए अन्य समस्याओं की पहचान करने के लिए डॉक्टर को परीक्षण करने की आवश्यकता हो सकती है।
उपचार - जब इस बीमारी के लक्षण पहली बार प्रकट होते हैं, तो डाॅक्टर द्वारा सलाह दी गई उल्टी रोकने की दवा से पेट के माइग्रेन के एपिसोड को कभी-कभी रोका जा सकता है।
1. एक बार उल्टी शुरू होने के बाद, डॉक्टर अंधेरे, शांत कमरे में बिस्तर पर रहने की सलाह देते हैं।
2. यदि अधिक उल्टी आ रही है, तो डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए इंट्रावेनस फ्ल्युड चढ़़ाने के लिए अस्पताल की इमरजेंसी में जाने की सलाह दी जाती है।
3. बीटा ब्लॉकर्स और अन्य दवाएं भी कुछ रोगियों में पुनरावृत्ति को रोकने में मदद कर सकती हैं।
पेट के माइग्रेन के एपिसोड के दौरान और उसके बाद, बहुत सारे तरल पदार्थ पीना और इलेक्ट्रोलाइट्स को लेना महत्वपूर्ण है।
महत्वपूर्ण जानकारी
1. अगर आपके बच्चे को 6 से 12 घंटे से अधिक समय तक उल्टी हो रही है या कोई अन्य लक्षण है तो तुरंत डॉक्टर को बुलाएं।
2. अगर अधिक उल्टी हो रही है, तो तुरंत अपने डॉक्टर को फोन करें या अस्पताल की इमरजेंसी में ले जाएं।
3. गंभीर डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए इंट्रावेनस फ्ल्युड चढ़ाना आवश्यक हो सकता है।
4. पेट के माइग्रेन को बढ़ाने वाले कारकों, जैसे तनाव या कुछ खाद्य पदार्थों की पहचान करें और उनसे बचने का प्रयास करें।


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home