Thursday, 7 May 2020

कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान घर पर स्वस्थ नियम

आयुष मंत्रालय ने निवारक उपायों के रूप में जो सिफारिश की है, वह स्वस्थ आहार नियम का भाग है।


कोविड-19 का प्रकोप, इसके निर्बाध रूप से तेजी से बढ़ते मामले और लॉकडाउन जैसी अप्रत्याशित स्थिति के अचानक उभरने ने सभी को एक स्थान पर लाकर रोक दिया है – और यह स्थान कोई और नहीं हमारे घर हैं। अब, हमारे एक घर में ही सभी चीजें जैसे ऑफिस, क्लासरूम, बेडरूम, रेस्तरां आदि समां गए हैं। अब इंटरनेट के माध्यम से शिखर सम्मेलन और सम्मेलन भी घर से ही हो रहे हैं।


लॉकडाउन में पूरा समय घर में रहना स्वास्थ्य के बारे में गंभीर चिंताएं पैदा कर रहा है जिसमें आहार महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वर्तमान परिदृश्य में, हमारी शारीरिक गतिविधियां अपेक्षाकृत कम हो गई हैं, जबकि भोजन का सेवन बढ़ गया है, जिससे हमारे आहार की संचालन शक्ति असंतुलित हो गई हैं, जिससे कईं स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। हालांकि, अगर हम उन अवसरों पर नज़र डालें, जो लॉकडाउन के दौरान प्रकृति द्वारा हमारी गलत जीवनशैली को ठीक करने के लिए उपलब्ध कराए जा रहे हैं, वो प्रचूर हैं। हम जीवन जीने के आयुर्वेदिक तरीके का अनुसरण करके अपने जीवन को अनुशासित कर, अपने शरीर से अनावश्यक भार को समाप्त कर सकते हैं। हमारे लिए यह सही समय है कि हम अपनी आदतों पर गौर करें, अपनी दिनचर्या को बेहतर बनाने के लिए उनमें बदलाव लाएं, जो एक ‘आदर्श स्वास्थ्य’ की ओर ले जा सकती हैं।


एक स्वस्थ आहार नियम का पालन करें, जो भोजन के सही विकल्पों से मिलकर बना हो और इससे भी महत्वपूर्ण है कि हम क्या, कैसे, कब और कहां खाते हैं, हमारी प्रतिरक्षा में सुधार करेगा। इसके विपरीत, गलत आदतें और भोजन के विकल्प, हमारी प्रतिरक्षा को कमज़ोर करते हैं, हमें वायरस के संक्रमण और रोगों का आसान शिकार बना देते हैं। प्रत्येक परिस्थिति में स्वस्थ रहने के लिए, ‘सही आहार’ ‘सही मंत्र’ है।


महर्षि आयुर्वेद के अध्यक्ष, श्री आनंद श्रीवास्तव कहते हैं, आयुर्वेद के अनुसार, आहार हमारे स्वास्थ को सुधारने और बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह प्रतिरक्षा को मजबूत रखने में भी सहायक है। आहार के महत्व पर ज़ोर देते हुए महर्षि चरक उल्लेख करते हैं, यदि किसी का आहार अच्छा है तो उसे किसी औषधि की आवश्यकता नहीं होगी। उन्होंने आगे उल्लेख किया, यदि किसी का आहार अच्छा नहीं तो उसे भी किसी औषधि की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि उसके लिए कोई औषधि काम नहीं करेगी। वर्तमान लॉकडाउन के परिदृश्य में जब हम अपने घरों में रह रहे हैं, तो हमारे शरीर के प्रकार और पाचन की दृष्टि से भोजन का चयन बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि हमारी शारीरिक गतिविधियां तुलनात्मक रूप से कम हो रही हैं।


उन्होंने आगे कहा, यह जानने के अलावा कि क्या खाना चाहिए, यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि कितना खाना चाहिए, कब खाना चाहिए और कैसे खाना चाहिए। आयुर्वेद उचित तर्क के साथ बहुत ही वैज्ञानिक और व्यवस्थित तरीके से इनकी व्याख्या करता है। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि कोई भी जो कुछ भी खाता है, वह उसके तंत्र में ठीक तरह से पचना और आत्मसात होना चाहिए। ताकि शरीर के उतकों का संतुलित रूप से उत्पादन हो सके, जो शरीर के रख-रखाव, सर्वोत्तम प्रदर्शन और स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक है।


आहार, प्रतिरक्षा और स्वास्थ के महत्व और उनके अच्छे अंतर्संबंधों को ध्यान में रखते हुए जो कि आयुर्वेद के अनुसार एक ‘आदर्श स्वास्थ्य’ का गठन करते हैं, हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने नागरिकों से आयुष मंत्रालय द्वारा जारी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने वाले दिशा-निर्देशों का पालन करने का आग्रह किया है, ताकि ये इस लड़ाई का पूरक बन सके। मंत्रालय द्वारा जो दिशा-निर्देश निर्धारित किए गए हैं, उनकी जड़ें आयुर्वेद विज्ञान में हैं, जो स्वस्थ और सुखी जीवन के लिए प्रकृति के उपहारों के उपयोग को बढ़ावा देते हैं।


 


डॉ. सौरभ शर्मा बताते हैं, चिकित्सा अधीक्षक, महर्षि आयुर्वेद, अस्पताल “कईं खाद्य पदार्थों के मिश्रण/मेल से हमारा आहार बनता है, और भोजन को औषधि की तरह ही शक्तिशाली माना जाता है। आयुर्वेद के अनुसार, ठीक से सेवन करने पर भोजन औषधि है। यदि हम अपने शरीर विज्ञान (शरीर प्रकार) के अनुकूल भोजन करते हैं और पाचन को बढ़ाने वाली सात्विक दिनचर्या का पालन करते हैं, तो हमारे शरीर को लाभ मिलेगा और हमें प्रसन्न और स्वस्थ्य रहने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, संतुलित आहार, उचित नींद भी हमें स्वस्थ्य रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके विपरीत गहरी नींद की कमी से गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं जैसे मधुमेह, मोटापा और हृदय रोग के विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।”


 


उन्होंने आगे कहा, “लॉकडाउन के वर्तमान परिदृश्य में, हमें पौष्टिक भोजन और नियमित जीवनशैली दोनों का संतुलन बनाना होगा। जिसमें सही समय पर भोजन करना, उचित नींद, आवश्यक व्यायाम, योग और ध्यान सम्मिलित हैं। लॉकडाउन का दौर खुद को अनुशासित करने का एक अवसर है जो एक स्वस्थ्य जीवन सुनिश्चित करेगा। और यह एक स्वस्थ आहार नियम का पालन करके किया जा सकता है।”


स्वस्थ खाद्य पदार्थों के साथ हमें समग्र स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए कुछ रसायनों (दीर्घायु को बढ़ावा देने का विज्ञान और इष्टतम स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए उपयोग किए जाने वाले हर्बल उपचार) को अपने आहार में शामिल करना होगा। इसके साथ ही, रसायन हमारे शरीर और मस्तिष्क में ऊर्जा के संरक्षण, परिवर्तन और कायाकल्प से संबंधित हैं। इसलिए, यदि हम अपने आहार में कुछ विशेष रसनाओं को सम्मिलित करते हैं, तो इससे न केवल हमें हमारे आहार को संतुलित बनाने में सहायता मिलती है बल्कि यह हमारे समग्र स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने में भी योगदान देता है। इस तरह के रसयानों में से एक महर्षि अमृत कलश है, जो स्वास्थ, दीर्घायु और संपूर्ण कल्याण को पुनः स्थापित करने के लिए जाना जाता है। इसमें सभी प्राकृतिक और शक्तिशाली जड़ी बूटियों का एक मिश्रण है। - जीवन का यह अमृत हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ को बहाल करने में सहायता करेगा, जिससे सभी तरह से एक स्वस्थ जीवन जीना संभव होगा।


No comments:

Post a Comment