Wednesday, 11 November 2020

डायबिटीज हालांकि कोविड–19 से ग्रस्त होने के खतरे को नहीं बढाता है लेकिन मधुमेह रोगियों को जाननी चाहिए ये बातें

इस समय जारी कोविड -19 महामारी के दौरान डायबिटीज से पीडित लोगों के लिए कोविड–19 को लेकर जो मुख्य चुनौती है वह यह है कि मधुमेह रोगियों को हालांकि कोविड होने का खतरा अन्य लोगों के समान ही होता है लेकिन अगर यह बीमारी उन्हें हो गई तो उनके लिए गंभीर परिणाम हो सकते हैं। भारत में, लगभग 70 मिलियन व्यक्ति मधुमेह के साथ जी रहे हैं, जिससे हम दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी मधुमेह आबादी वाला देश हैं। 


डॉ यादव ने कहा, ʺलोगों में यह गलत धारणा है कि डायबिटीज (टाइप 1 और टाइप 2) से पीड़ित लोगों में कोविड संक्रमण का खतरा अधिक होता है। जबकि वास्तविकता यह है कि डायबिटीज से पीडित लोगों को सामान्य आबादी की तुलना में कोरोनावायरस संक्रमण होने की अधिक संभावना नहीं होती है। हालांकि मधुमेह से पीडित लोगों में मधुमेह रहित लोगों की तुलना में गंभीर जटिलताएं और मृत्यु दर अधिक है - और हम मानते हैं कि किसी भी व्यक्ति को जितनी अधिक स्वास्थ्य समस्याएं (उदाहरण के लिए, मधुमेह, हृदय या गुर्दे की बीमारी) होती है, किसी भी वायरस के संपर्क में आने पर जटिलताएं होने की संभावना भी उतनी ही अधिक होती है। वृद्ध लोगों को भी अधिक जोखिम रहता है। ”


डॉ यादव ने कहा, “सामान्य तौर पर, मधुमेह से पीडित लोगों में वायरस से संक्रमित होने पर गंभीर लक्षण और जटिलताएं होती हैं। मधुमेह को अच्छी तरह से नियंत्रित नहीं रखने वाले लोगों में कोरोनोवायरस संक्रमण के कारण मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है। जब मधुमेह से पीडित लोग अपने मधुमेह को अच्छी तरह से प्रबंधित नहीं करते हैं और उनके रक्त शर्करा में उतार-चढ़ाव होता है, तो उन्हें आम तौर पर  मधुमेह संबंधी कई जटिलताओं के होने का खतरा होता है। मधुमेह के अलावा हृदय रोग या अन्य जटिलताएं होने से कोरोनावायरस संक्रमण से गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना बढ़ सकती है, क्योंकि ऐसे मामलों में शरीर की संक्रमण से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। ”


डॉ योगेश यादव ने कहा, “बहुत से मरीज़ मुझसे पूछते हैं कि क्या कोविड संक्रमण के कारण मधुमेह हो सकता है, जिसके बारे में मुझे यह कहना है कि कोरोनावायरस संक्रमण और मधुमेह के बीच संबंध दोतरफा है। एक ओर, मधुमेह गंभीर कोरोनावायरस संक्रमण के खतरे को बढाता है।  दूसरी ओर, कोरोनोवायरस संक्रमण वाले रोगियों में मधुमेह की शुरुआत होने और डायबिटिक कीटोएसिडोसिस और हाइपरोस्मोलेरिटी सहित पहले से मौजूद मधुमेह के गंभीर जटिलताओं को देखा गया है। इन स्थितियों में उपचार के लिए इंसुलिन की असाधारण रूप से उच्च खुराक की आवश्यकता होती है। गंभीर कोरोनोवायरस संक्रमण होने पर अचानक शुरू हुए ग्लूकोज चयापचय में परिवर्तन कोविड संक्रमण के ठीक होने बाद जारी रहने या कम होने के बारे में भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। "


यदि आपको मधुमेह है तो आपको क्या करना चाहिए?



  • अपने शुगर के स्तर की नियमित जाँच करें कि वे सामान्य सीमा में हैं या नहीं।

  • अपनी क्षमता के अनुसार नियमित व्यायाम करें। आप योग, प्राणायाम, स्ट्रेचिंग व्यायाम जैसे व्यायाम घर पर भी कर सकते हैं ।

  • अपने आहार और वजन पर नज़र रखें। वजन में वृद्धि होने पर शुगर के स्तर में वृद्धि हो सकती है।


No comments:

Post a Comment