Thursday, 24 June 2021

युवाओं और बच्चों के लिए योग

 

डॉ प्रताप चौहान, निदेशक, जीवा आयुर्वेद

योग सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली की नींव रखता है। न केवल वयस्कों के लिए, बल्कि युवाओं और बच्चों के लिए यह बेहद फायदेमंद हो सकता है। यह उन्हें अद्भुत जीवन कौशल से लैस कर सकता है ताकि उन्हें फलने-फूलने में मदद मिल सके और जीवन में आने वाली किसी भी चुनौती से निपटने में मदद मिल सके। विशेष रूप से, आज की दुनिया में जहां बच्चों पर इतना अधिक दबाव है और इंटरनेट, सोशल मीडिया आदि के माध्यम से उनमें लगातार उत्तेजना बढ़ रही है, योग उनकी बुनियाद को मजबूत करने और अधिकतम दक्षता और शांति के साथ अपने निर्णय लेने में सक्षम बनाने के लिए एक बहुत ही उपयोगी उपकरण साबित हो सकता है।

अनुशासन
योगाभ्यास करने और इसमें निपुण हाेने के लिए अनुशासन और धैर्य की आवश्यकता होती है। किशोरों और बच्चों में, अक्सर तंत्रिका ऊर्जा अधिक होती है जिसका सही ढंग से उपयोग किया जाना चाहिए। योग आसन और प्राणायाम उस ऊर्जा को एक बेहतर दिशा में ले जाने में मदद कर सकते हैं और बच्चों और किशोरों के बीच आवेग और उपद्रवी व्यवहार पर अंकुश लगा सकते हैं।

शक्ति
योग मुद्राएं शारीरिक रूप से प्रभाव डाल सकती हैं, वे मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत करने के लिए शरीर के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर दबाव डालती हैं, जिसके परिणामस्वरूप शरीर के लचीलेपन में वृद्धि होती है। एक मजबूत और लचीले शरीर के बीमारी और चोट से प्रभावित होने की संभावना कम होती है। इसके अलावा, कई योगासन भी शरीर को डिटॉक्सीफाई करते हैं, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं।

एकाग्रता और स्मृति

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, युवा लोगों में न केवल अकादमिक रूप से बल्कि अन्य कारणों से भी बहुत सारी व्यस्तताएं और अपेक्षाएं होती हैं। इसके अलावा, उनमें लगातार उत्तेजना होती है जो उनकी जिम्मेदारियों और कर्तव्यों से ध्यान भटकाने का काम कर सकती है। यह स्वाभाविक है कि ऐसे वातावरण में उनका ध्यान कम होता जा रहा है और उनकी एकाग्रता कौशल में कमी आ रही है। योग मन और शरीर के समग्र विकास के लिए फायदेमंद है और यह संज्ञानात्मक कार्यों को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह साबित हो चुका है कि रोजाना 20 मिनट तक योग करने से दिमाग की कार्यप्रणाली को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

जागरूकता और एकाग्रता

योग आत्म-प्रेम और आत्म-स्वीकृति की बढ़ाने के लिए एक महान उपकरण है। योग की विभिन्न शारीरिक मुद्राएं व्यक्ति को अपने शरीर के बारे में जागरूक होने और उसके प्रति सम्मानजनक होने में मदद करती हैं। यह एकाग्रता को बढ़ाता है और लोगों की इंद्रियों को तेज करता है। यह भावनात्मक बुद्धिमत्ता के साथ-साथ अन्य लोगों के प्रति सहानुभूति को बढ़ाने में मदद कर सकता है। यह हमें दूसरे लाेगों - मित्रों, शिक्षकों, माता-पिता आदि की आवश्यकताओं के प्रति अधिक विचारवान बनाता है।

भावनात्मक संतुलन

योग स्वभाव को शांत बनाए रखने में सहायक साबित हुआ है, ताकि व्यक्ति तनावपूर्ण स्थितियों से अच्छी तरह निपट सके। यह विचार की स्पष्टता पैदा करता है और व्यक्ति को महत्वपूर्ण चीजों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करने के लिए दिमाग को व्यवस्थित करने में सक्षम बनाता है। यह तनाव और एंग्जाइटी को कम करता है और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए आत्मविश्वास से लैस करता है। योग भावनात्मक संतुलन लाने के लिए शरीर और दिमाग को प्रशिक्षित करता है।

बच्चों और युवाओं के लिए कुछ आसन

  1. बलासन - यह एक आराम देने वाली मुद्रा है, जिसका अभ्यास शरीर को आराम देने के लिए थकाने वाले आसनों के बीच किया जा सकता है। इस आसन को करने के लिए, फर्श पर इस तरह घुटने टेकें कि आपके पैर की उंगलियां फर्श को स्पर्श करें और फिर अपनी जांघों को अलग करें। सांस छोड़ते हुए अपने धड़ को पैरों के बीच लाएं और रीढ़ को सीधा करें। अपनी हथेलियों को फर्श पर रखें और अपने कंधों को अपनी पीठ का भार उठाने दें। यह पूरे शरीर को धीरे से स्ट्रेच करने के साथ-साथ आपके दिमाग को शांत करने में भी मदद करेगा। पीठ और गर्दन के दर्द को कम करने में मदद करने के लिए यह सबसे उपयोगी व्यायाम है।

  2. शशंकासन - इसे 'खरगोश मुद्रा' भी कहा जाता है। इसका बहुत ही अच्छा शांत प्रभाव पड़ता है, हालांकि इसका अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए आसन के सही तौर– तरीकों को जानना आवश्यक है। सबसे पहले वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाएं। धीरे-धीरे सांस लेते हुए हाथों को अपने सिर के ऊपर उठाएं और धड़ को आगे की ओर झुकाते हुए सांस छोड़ें। आप आराम करने के लिए अपनी बाहों को थोड़ा मोड़ सकते हैं, लेकिन ऐसा केवल तभी करें जब आप अंतिम स्थिति में हों। यह पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है, तनाव मुक्त करता है, कब्ज को दूर करता है और आपकी पैल्विक मांसपेशियों को टोन करता है।

  3. मर्जरी आसन - इसे 'कैट पोज' भी कहा जाता है। इसमें बिल्कुल बिल्ली के समान (फीलाइन) स्ट्रेच शामिल है। इसका अभ्यास करने के लिए अपने घुटनों और हाथों पर इस तरह खड़े हो जाएं कि आप एक टेबल की तरह दिखें। गहरी सांस लें और अपने सिर को ऊपर उठाते हुए अपनी रीढ़ की हड्डी को ऊपर उठाएं। इसे 5 सेकंड के लिए होल्ड करें। अपने सिर को आगे की ओर झुकाते हुए धीरे-धीरे सांस छोड़ना शुरू करें और अपनी पीठ को झुकाएं। आप इसे जितना अधिक धीरे-धीरे करते हैं, उतना ही अधिक शांतिपूर्ण और चिकित्सीय अनुभव होता है। अपनी रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने, पाचन में सुधार करने और रक्त परिसंचरण को बढ़ाने के लिए इसे नियमित रूप से करें।

  4. पर्वतासन – इसे पर्वतीय मुद्रा भी कहा जाता है। इससे पर्वत के समान लाभ मिलते हैं - दृढ़ता, प्रतिरोध और चपलता। यह आसन 'सूर्य नमस्कार' का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। अपने पैरों को फैलाकर फर्श पर बैठें। अपने दाहिने पैर को बायीं जांघ पर ले जाएं और इसके विपरीत, बायें पैर को दायीं जांघ पर ले जाएं‚ इस तरह कि आपके दोनों पैर एक दूसरे को क्रॉस करे। गहरी सांस लें और अपने हाथों को सिर के ऊपर रखें और उन्हें 'नमस्कार मुद्रा' में मिला लें। इसे लगभग 30 सेकंड तक रोकें और दोहराएं। यह आपको शरीर के संतुलन में सुधार करने, कंधों से तनाव को दूर करने, पैरों को मजबूत करने और फेफड़ों की गतिविधि में सुधार करने में मदद करेगा।

  5. वृक्षासन - यह एक पेड़ के दृढ़ और सम्मानजनक रुख को फिर से कायम करता है। इसका अभ्यास करने के लिए, अपने हाथों को नीचे की ओर करके सीधा रखते हुए सीधा खड़े रहें। अपने घुटने को मोड़ें और दूसरे पैर को अपनी जांघ पर रखें। पैर सीधा होना चाहिए। जब आपको अपना संतुलन मिल जाए, तो सांस लें और अपने हाथों को ऊपर उठाएं। अपनी हथेलियों को एक साथ लाएं और इसी मुद्रा में रहें। धीरे-धीरे सांस छोड़ें और दूसरे पैर से भी ऐसा ही करें। यह आपको शांत अनुभव कराता है और संतुलन वापस लाता है। यह आपके शरीर को स्ट्रेच करता है और एकाग्रता में सुधार करता है। साइटिका से पीड़ित लोगों को इस आसन को विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में करना चाहिए।

    जीवा आयुर्वेद के निदेशक डॉ प्रताप चौहान लेखक, सार्वजनिक वक्ता, टीवी पर्सनाल्टी और आयुर्वेदाचार्य हैं।



0 Comments:

Post a Comment

<< Home