Thursday, 24 June 2021

महिलाओं के लिए योग

 



डॉ प्रताप चौहान, निदेशक, जीवा आयुर्वेद


योग एक प्राचीन भारतीय प्रथा है जो शारीरिक मुद्राओं, श्वसन विधियों और ध्यान को जोड़ती है। नियमित योगाभ्यास हमारे समग्र स्वास्थ्य, शक्ति को बढ़ाता है और हमारे मन को शांत करने में मदद करता है। आधुनिक समय में महिलाएं अपने करियर और परिवार दोनों की जिम्मेदारी उठा रही हैं‚ इसलिए, जीवन के सभी पहलुओं को संतुलित करने में सक्षम होने के लिए और अपने उपर कार्य का अधिक बोझ होने पर भी शांत रहने के लिए योगाभ्यास आवश्यक हो जाता है। परिवार और घर का प्रबंधन करते समय, महिलाएं अक्सर अपने स्वास्थ्य की उपेक्षा करती हैं जिससे उन्हें मानसिक और शारीरिक समस्याएं, जीवनशैली से जुड़ी समस्याएं और पीसीओएस जैसे हार्मोनल डिसआर्डर, थायराइड डिसआर्डर, मोटापा, तनाव और एंग्जाइटी हो सकती है। मन, शरीर और आत्मा के संतुलन को बनाए रखने के लिए योगाभ्यास करना आवश्यक है। यह जीवन के सभी पहलुओं में संतुलन लाने में मदद करता है। स्वस्थ तन और मन से व्यक्ति अपना और परिवार का भी अच्छे से ख्याल रख सकता है।

भावनाओं पर नियंत्रण और तनाव का प्रबंधन

योग किसी के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है, जो महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण कारक है। महिलाओं को परिवार चलाने में तनाव का सामना करना पड़ता है, और कुछ महिलाओं को तो अपने करियर और पारिवारिक जीवन दोनों में समन्वय स्थापित करना पड़ता है। कॉर्पोरेट जीवन, काम के लंबे घंटे और अपने परिवार की देखरेख का अतिरिक्त दबाव महिलाओं के भावनात्मक स्वास्थ्य, फिटनेस के स्तर और नींद के चक्र को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है। योग इन सभी चीजों को वापस सामान्य होने में मदद करता है।

कुछ योगासन जो एंग्जाइटी‚ डिप्रेशन और तनाव से संबंधित समस्याओं से निपटने में मदद कर सकते हैं, वे हैं – बलास, वृक्षासन, और मत्स्यासन।

योग निद्राचक्र को नियंत्रित करता है

पर्याप्त नींद के बिना, कोई भी व्यक्ति अपने उच्चतम स्तर पर कार्य नहीं कर सकता है, और सिद्धासन, विपरीत करिणी और सुप्तअर्ध दंडासन जैसे योग हमारे नींद चक्र, नींद की गुणवत्ता और अनिद्रा को दूर करने में मदद करते हैं।

योग हार्मोन संतुलन और प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखता है

प्रजनन चक्र और इससे जुड़ी हार्मोन संबंधित समस्याओं के कारण, पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं। यौवन से लेकर बच्चे के जन्म और फिर रजोनिवृत्ति तक, महिला के शरीर में जीवन भर बहुत सारे बदलाव आते हैं। इन चरणों के शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों को दूर करने के लिए, योग का निरंतर अभ्यास एक आवश्यक भूमिका निभाता है। आजकल युवा महिलाओं को प्रभावित करने वाली की एक सामान्य समस्या है पीरियड्स का अनियमित होना। आम तौर पर एक मासिक धर्म चक्र 28 दिनों का होता है, लेकिन अगर आपको 35 दिनों से अधिक समय से मासिक धर्म नहीं आया है या पिछले पीरियड के 21 दिनों के भीतर ही रक्तस्राव होता है तो यह अनियमित माना जाता है। यदि ऐसा कभी-कभी होता है तो परेशान होने वाली कोई बात नहीं है, लेकिन, नियमित रूप से मासिक धर्म का अनियमित होना अच्छी बात नहीं है और आपको यह पता लगाने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए कि इसका कारण क्या है और इसे कैसे ठीक किया जाए। ऐसा होने के कुछ कारण हैं – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस), बहुत अधिक व्यायाम करना और कुछ दवाओं का उपयोग करना। इसके अन्य कारण स्तनपान, गर्भावस्था, थायराइड और तनाव हो सकते हैं।

योगासन इसमें भी मदद कर सकते हैं, और अनियमित पीरियड्स को प्रबंधित करने के लिए कुछ मुद्राएं जिनका अभ्यास किया जा सकता है, वे हैं धनुरासन, उष्ट्रासन और भुजंगासन।

रजोनिवृत्ति का समाधान

रजोनिवृत्ति एक ऐसी अवस्था है जो महिला के प्रजनन चक्र के अंत का संकेत देती है और यह महिलाओं के लिए कठिन चरण है, क्योंकि इसमें कई प्रकार के हार्मोनल परिवर्तन भी होते हैं जो समस्याएं पैदा कर सकते हैं। थकावट, मूड में उतार– चढ़ाव और दर्द कुछ ऐसी समस्याएं हैं जिनसे महिलाओं को जूझना पड़ता है। यहां योग उपचार की भूमिका निभाता है ताकि महिलाएं इन मनोवैज्ञानिक और शारीरिक परिवर्तनों से निपट सकें। रजोनिवृत्ति एक बदलाव वाला चरण है, लेकिन इससे प्रभावी ढंग से निपटने में योग महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। कुछ आसन जो इस अवधि के दौरान मदद कर सकते हैं वे हैं मार्जरी आसन (बिल्ली की मुद्रा), अंजनेयासन (लंग मुद्रा) और सलंब भुजंगासन (स्फिंक्स मुद्रा)। योग हार्मोन को संतुलित करने और महिला को शांत रखने और उनकी समस्याओं से निपटने के लिए तैयार करने में भी मदद करता है।

इनके अलावा, ऐसे कई आसन हैं जो माइग्रेन, थायराइड और पीठ दर्द के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं, जो एक सामान्य बीमारी है जिससे सभी उम्र की महिलाएं पीड़ित होती हैं। माइग्रेन के लिए सुझाए गए आसन अधोमुखासवन आसन (नीचे की ओर चेहरा कर कुत्ते की मुद्रा) और प्रसरितापद्दोत्तन आसन (पैर को चौड़ा करके आगे की ओर झुकना) हैं। थायराइड के अच्छे स्वास्थ्य के लिए, सर्वांगासन (शोल्डर स्टैंड पोज़) और धनुरासन (हल वाली मुद्रा) आज़मा सकते हैं। पीठ दर्द को कम करने के लिए भुजंगासन (कोबरा मुद्रा) और सलंब भुजंगासन (स्फिंक्स मुद्रा) को सबसे प्रभावी पाया गया है।

महिलाओं को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि हालांकि यहां योग के महत्व पर सलाह दी गई है, लेकिन योग अभ्यास एक प्रोफेशनल के मार्गदर्शन में ही किया जाना चाहिए। एक प्रमाणित प्रशिक्षक से योग कक्षाएं लेना सबसे अच्छा है जो आपको सही आसन और उचित तकनीक सिखाता है।



0 Comments:

Post a Comment

<< Home