Wednesday, 27 November 2019

रक्त एवं अ​स्थि मज्जा प्रत्यारोपण

अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण (बीएमटी) एक प्रक्रिया है जिसमें रोगग्रस्त या क्षतिग्रस्त अस्थि मज्जा कोशिकाओं के स्थान पर स्वस्थ लोगों से अस्थि मज्जा कोशिकाओं को लेकर वहां प्रतिस्थापित कर दिया जाता है। यह प्रक्रिया वैसी स्थिति में की जाती है जब रोगी पर मानक दवाओं का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। यह प्रक्रिया रोगी को रेडियेशन उपचार के साथ या इसके बगैर हाई डोज की कीमोथेरेपी के बाद की जाती है।
अस्थि मज्जा क्या है?
अस्थि मज्जा हड्डियों के अंदर का स्पंजनुमा ऊतक है जो श्वेत रक्त कोशिकाओं, लाल रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स सहित रक्त कोशिकाओं को उत्पन्न करता है। अस्थि मज्जा में कोशिकाएं सामान्य रूप से रक्त कोशिकाओं में विकसित होती है जिन्हें स्टेम सेल कहा जाता है। जब अस्थि मज्जा क्षतिग्रस्त होती है, तब यह लंबे समय तक इन कोशिकाओं को पैदा नहीं करती है। इसके परिणामस्वरूप, कमजोरी, रक्ताल्पता, संक्रमण, अत्यधिक रक्तस्राव और यहां तक कि मौत भी हो सकती है।
रोग का इलाज 
ल्यूकेमिया, लिम्फोमा, मल्टिपल मायलोमा जैसे कैंसर, कुछ ठोस ट्यूमर, अप्लास्टिक एनीमिया और थैलेसीमिया जैसी स्थितियों का बीएमटी से सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है। 
अस्थि मज्जा ही क्यों?
अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण के तहत वैसी अस्थि मज्जा को प्रतिस्थापित किया जाता है जो रोगग्रस्त होने के कारण ठीक से काम नहीं कर रही हो, या कीमोथेरेपी या रेडियेषन के कारण उसे जान-बूझकर नश्ट कर दिया गया हो (हटा दिया गया हो)। ज्ञातव्य है कि कई तरह के कैंसर में, दाता की श्वेत रक्त कोशिकाएं किसी भी शेष कैंसर की कोशिकाओं को मार सकती है। इसी प्रकार संक्रमण से लड़ने के लिए ष्वेत कोशिकाएं बैक्टीरिया या वायरस पर हमला करती हैं।
अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण के प्रकार
— ऑटोलॉगस अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण: आपको उच्च खुराक की कीमोथेरेपी या विकिरण उपचार देने से पहले स्टेम कोशिकाओं को निकाल दिया जाता है। स्टेम कोशिकाओं को एक विशेष फ्रीजर में जमा किया जाता है। उच्च खुराक की कीमोथेरेपी के बाद, आपकी स्टेम कोशिकाएं सामान्य रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए आपकेे शरीर में वापस डाल दी जाती हैं। इसे रेस्क्यू प्रत्यारोपण भी कहा जाता है।
— एलोजेनिक अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण: जिस व्यक्ति से स्टेम कोशिकाओं को निकाला जाता है, उसे दाता कहा जाता है। ऐसे मामले में, दाता के जीन को आपके जीन से कम से कम आंशिक रूप से मेल खाना चाहिए। दाता के जीन का आपके जीन के साथ बेहतर तरीके से मैच होगा या नहीं, इसे देखने के लिए विशेष परीक्षण किये जाते हैं। भाई या बहन से सबसे अच्छा मैच होने की संभावना होती है। कभी- कभी माता-पिता, बच्चों, अन्य रिश्तेदारों और यहां तक कि असंबंधित दाताओं से भी अच्छा मैच हो सकता है।
अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण आमतौर पर वैसे अस्पताल में किया जाता है जो इस तरह के उपचार में कुशल हो तथा वहां इसकी सुविधाएं मौजूद हो। आपको केंद्र में विशेष अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण इकाई में रखा जाता है। इससे आपको संक्रमण होने की संभावना कम हो जाती है। यह चरणबद्ध चिकित्सा प्रक्रिया है और इसमें तीन सप्ताह तक अस्पताल में रहने की आवश्यकता होती है।


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home