Wednesday, 27 November 2019

बढ़ी हुई प्रॉस्टेट ग्रंथि के खतरों और जटिलताओं से रहें सावधान

प्रोस्टेट वृद्धि, बिनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लेसिया (बीपीएच) के नाम से भी जाना जाता है और यह पुरुषों की सबसे अधिक प्रचलित स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। यह स्थिति तब उत्पन्न होती है जब प्रोस्टेट फैल जाता है और मूत्र मार्ग पर दबाव डालने लगता है, जिसके कारण पेशाब करने और मूत्राशय से संबंधित समस्याएं पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। पेशाब करने की तत्काल जरूरत महसूस होने (नाॅक्टुरिया) पर रात में जागने के कारण पुरुष की रात की नींद पूरी नहीं होती है और उसका जीवन बाधित होता है। 
प्रोस्टेट लगभग अखरोट के आकार की एक छोटी लेकिन महत्वपूर्ण ग्रंथि होती है। चूंकि इस स्थिति में मूत्रमार्ग के उपरी हिस्से के चारों ओर का हिस्सा प्रभावित होता है, इसलिए इसमें पेशाब करने की तत्काल जरूरत महसूस होने, बार-बार पेशाब करने और पेशाब करते समय दर्द होने जैसे लक्षण हो सकते हैं।
उम्र बढ़ने के साथ अधिकतर पुरुषों में प्रोस्टेट ग्रंथि का आकार बढ़ जाता है। बीपीएच से पीड़ित पुरुषों में इसके लक्षण आम तौर पर 40 साल की उम्र के बाद शुरू होते हैं। 60 साल की उम्र तक एक तिहाई पुरुषों और 80 साल की उम्र तक करीब आधे पुरुषों में सामान्य से गंभीर लक्षणों का अनुभव होता है। 
हालांकि बीपीएच घातक नहीं होता है, लेकिन इसके लक्षणों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि ये अधिक गंभीर स्थिति का सूचक होते हैं। यदि इनका इलाज नहीं कराया गया, तो प्रोस्टेट की वृद्धि मूत्राशय में रुकावट और गुर्दे की विभिन्न समस्याएं पैदा कर सकता है।
विशेषज्ञों के अनुसार, पुरुषों को अपनी जीवन शैली में परिवर्तन करना चाहिए जिससे बीपीएच के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है। मूत्राशय की परेशानी से बचने के लिए कैफीन और शराब का सेवन भी कम करना चाहिए। पुरुषों को कब्ज और पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों पर दबाव से बचने के लिए अपने वजन के साथ-साथ आहार पर भी निगरानी रखनी चाहिए।
बीपीएच की पहचान अक्सर डिजिटल गुदा परीक्षण नाम प्रास्टेट ग्रंथि के शारीरिक परीक्षण और प्रोस्टेट- स्पेशिफिक एंटीजेन परीक्षण नामक रक्त परीक्षण से किया जाता है। रक्त में पीएसए के अधिक स्तर होने पर कभी-कभी प्रोस्टेट कैंसर की भी जांच की जाती है, लेकिन बहुत कम मामलों में ऐसा होता है। प्रोस्टेट में वृद्धि के कारण भी पीएसए का स्तर उंचा हो जाता है।
बीपीएच का इलाज जीवन शैली में परिवर्तन और दवा दोनों से किया जाता है। बढ़े हुए प्रोस्टेट का इलाज दवाओं से किया जा सकता है, लेकिन कुछ मामलों में सर्जरी भी आवश्यक हो सकती है। हालांकि, बढ़े हुए प्रोस्टेट के इलाज के लिए, पूरे प्रोस्टेट को हटाने की जरूरत नहीं होती है। वास्तव में, प्रोस्टेट के बढ़े हुए उस हिस्से को हटाने के लिए लेजर सर्जरी की जाती है जो मूत्र मार्ग पर दबाव डाल रहा होता है। इससे रोगी को राहत मिल जाती है।


No comments:

Post a Comment