Saturday, 30 November 2019

शरीर की प्राकृतिक शुद्धता के लिए विषाक्तता से मुक्त खाद्य पदार्थों और सब्जियों का सेवन करें

जब हम 'डिटाॅक्सिफिकेशन' शब्द सुनते हैं, तो हमारे दिमाग में बहुत सारे विचार आ सकते हैं। मानव शरीर अपनी विभिन्न प्रणालियों के जरिए विषाक्त और अवांछित पदार्थों को दूर करने के लिए लगातार काम करता है। हमारे दैनिक आधुनिक जीवन में, विभिन्न प्रकार के जंक फूड, शराब, और कैफीन, ड्रग्स, तनाव, अवसाद और पर्यावरण में पाये जाने वाले विषाक्त पदार्थ हमारे जीवन का हिस्सा बन चुके हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हमारा आहार या जीवन शैली कितनी स्वस्थ है, हमें शरीर को रिचार्ज करने और विशाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने के लिए बाहरी कारकों को भी मौका देने की आवश्यकता है जिससेे हम अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाये रख सकते हैं और लंबे समय तक उर्जावान बने रह सकते हैं। जब हमारे महत्वपूर्ण अंगों पर बहुत अधिक दबाव पड़ता है और वे ठीक से और कुशलता से काम करने के लिए असमर्थ हो जाते हैं तो बीमारी और रोग प्रकट हो सकते हैं।
डिटाॅक्स हमारे शरीर को विराम देने और कुषलता से काम करने के लिए हमारे स्वयं की सफाई और स्वयं-चिकित्सा प्रक्रियाओं को एक अवसर प्रदान करता है। हमारा शरीर बुद्धिमान हैं और सफाई का समय रीसेट बटन पर क्लिक करने और आपको स्वस्थ, खुशहाल और अधिक ऊर्जावान करने के लिए एक पथ पर आगे बढ़ना शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है!
आपके शरीर को स्वाभाविक रूप से होने वाले लाभः -
ऽ पुरानी बीमारियों की रोकथाम
ऽ मजबूत प्रतिरक्षा
ऽ ऊर्जा का बढ़ना
ऽ दीप्तिमान, चमकती त्वचा
ऽ चमकदार, स्पष्ट आँखें
ऽ मानसिक स्पष्टता
ऽ बेहतर आत्मविश्वास और सशक्तिकरण
शरीर को डिटाॅक्स करने वाले प्रमुख खाद्य पदार्थ और सब्जियां: -
1. नींबू पानी (लेमोनेड) - लेमोनेड क्लींज के लिए आप पानी, नींबू का रस, मेपल सिरप और केयेन काली मिर्च का एक पेय बना कर तीन से दस दिनों तक विशेष रूप से सेवन करें। लेमोनेड क्लींज आपको अपनी प्रणाली से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और प्रभावी रूप से वजन घटाने में भी सहायता करता है।
2. सेब - सेब में विटामिन, फाइबर और खनिज तो भरपूर मात्रा में होते ही हैं, फाइटोकेमिकल और पेक्टिन भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। ये सभी मिलकर डिटाॅक्स में मदद करते हैं। सेब सबसे फायदेमंद तब होता है जब इसे कच्चा खाया जाता है और छिलके के साथ इसका सेवन करने पर यह विटामिन सी और फाइबर का अच्छा स्रोत है। 3. बेरीज - सभी बेरीज; स्ट्रॉबेरी, रास्पबेरी, ब्लैकबेरी, ब्लैककुरेंट और ब्लूबेरी विटामिन सी और फाइबर के बहुत अच्छे स्रोत हैं। बेरीज का सेवन करने पर बटरेट के उत्पादन में मदद मिलती है, जो एक फैटी एसिड होता है जो वजन घटाने में मदद करता है और शरीर को दुबला बनाता है। 4. अनानास - अनानास में ब्रोमलेन प्रचुर मात्रा में होता है जो प्रोटीन को तोड़ने और इसके पाचन में मदद करता है। यह सूजन को कम करने में भी मदद करता है जिससे आगे चलकर आर्थराइटिस से राहत मिलती है और चोटों से शीघ्र स्वस्थ होने में मदद मिलती है।
5. अनार - अनार में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी और फाइबर होते हैंै। इसे एक दवा के रूप में भी माना जाता है क्योंकि यह हृदय को स्वस्थ रखने और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करता है।
6. चुकंदर - चुकंदर कमाल की चीज है। यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है और विटामिन बी 3, बी 6 और सी, के अलावा बीटा-कैरोटीन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, जस्ता, और लोहे का बड़ा स्रोत है। यह विषाक्त पदार्थों को तोड़ने में हमारे यकृत और पित्ताशय की सहायता करता है, और इसका फाइबर पाचन और मल त्याग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
7. लहसुन - कच्चा लहसुन पूरी तरह से अद्भुत होता है। इसमें शक्तिशाली एंटीवायरल, एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुण होते हैं। लहसुन डिटॉक्सिफिकेशन एंजाइम का उत्पादन करने के लिए लिवर को उत्तेजित करने में मदद करता है जो पाचन तंत्र से विषाक्त पदार्थों को फ़िल्टर करने में मदद करते हैं।
8. ब्रोकली - ब्रोकली स्प्राउट्स में महत्वपूर्ण फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो डिटॉक्स प्रक्रिया में सहायता करते हैं। ये फाइटोकेमिकल्स पाचन तंत्र में डीटाॅक्सीफिकेषन एंजाइमों को उत्तेजित करते हैं और इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स भी अत्यधिक होते हैं!


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home