Friday, 1 November 2019

स्तन की मैमोग्राफी : स्तन कैंसर की समयपूर्व जांच

मैमोग्राफी को मैमोग्राम भी कहा जाता है। यह स्तन का एक्स-रे है जिसका इस्तेमाल स्तन कैंसर के निदान के लिए किया जाता है। विशेषज्ञ 40 साल से अधिक उम्र वाली महिलाओं को हर 1-2 साल में मैमोग्राम कराने की सलाह देते हैं। स्तन कैंसर के व्यक्तिगत या पारिवारिक इतिहास के मामले में, डॉक्टर जल्द स्क्रीनिंग कराने की सलाह दे सकते हैं। जब स्तन में किसी प्रकार के कैसर या स्तन में किसी प्रकार के परिवर्तन की जांच के लिए नियमित परीक्षण के रूप में मैमोग्राम कराने की सलाह दी जाती है तो इसे स्क्रीनिंग मैमोग्राम कहा जाता है। स्तन कैंसर से संबंधित गांठ या कोई अन्य लक्षण होने पर, डॉक्टर आपका डायग्नोस्टिकक मैमोग्राम कराएंगे।
इस परीक्षण में लगभग 30 मिनट लगते हैं।
मैमोग्राफी के प्रकार
डिजिटल मैमोग्राफी - इसे फुल-फील्ड डिजिटल मैमोग्राफी (एफएफडीएम) भी कहा जाता है। यह एक मैमोग्राफी प्रणाली है जिसमें एक्स-रे फिल्म को इलेक्ट्रॉनिक्स द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है जो एक्स-रे को स्तन की मैमोग्राफिक छवियों में परिवर्तित कर देता है। रेडियोलॉजिस्ट इसका अवलोकन करने के लिए और इसे संग्रहित रखने के लिए इन डिजिटल छवियों को कंप्यूटर में स्थानांतरित कर देते हैं।




कंप्यूटर एडेड डिटेक्शन (सीएडी) - यह प्रणाली घनत्व, द्रव्यमान या कैल्सिफिकेशन के असामान्य क्षेत्रों का पता लगाने के लिए डिजिटाइज्ड मैमोग्राफिक छवियों को स्कैन करती है जो कैंसर का संकेत देते हैं। यह प्रणाली छवियों पर महत्वपूर्ण क्षेत्रों को हाईलाइट करती है और रेडियोलाॅजिस्ट को निर्दिष्ट क्षेत्र का सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करने के लिए सचेत करती है।
ब्रेस्ट टोमोसिंथेसिस - इसे 3-डी मैमोग्राफी या डिजिटल ब्रेस्ट टोमोसिंथेसिस (डीबीटी) के नाम से भी जाना जाता है। यह, ब्रेस्ट इमेजिंग का एक उन्नत रूप है, जिसके तहत विभिन्न कोणों से स्तन की कई 3-डी इमेज ली जाती है और इन्हें संश्लेषित किया जाता है। यह कम्प्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी) इमेजिंग के समान है।


अभिनेत्री काजल अग्रवाल बनीं खेलप्ले रमी का चेहरा



मैमोग्राफी प्रक्रिया
मैमोग्राफी एक ओपीडी (आउट पेशेंट) प्रक्रिया है। इसके तहत स्तन को एक विशेष प्लेटफार्म पर रखा जाता है और एक स्पष्ट प्लास्टिक पैडल से दबाया जाता है। तकनीशियन धीरे-धीरे आपके स्तन को तब तक दबाता है जब स्तन की मोटाई बराबर हो जाए और सभी ऊतक फैल कर स्पष्ट दिखने लगे ताकि स्तन के ऊतकों में किसी भी प्रकार की छोटी असामान्यताओं के छिपी रहने की संभावना कम से कम हो जाए।
आपको इमेज लेते समय बीच-बीच में अपना पोजीशन बदलने के लिए कहा जाएगा। दूसरे स्तन के लिए भी यही प्रक्रिया दोहराई जाएगी। इस प्रक्रिया के दौरान, आपको बहुत स्थिर होना चाहिए और कुछ सेकंड के लिए आपको सांस रोकने के लिए कहा जाएगा ताकि किसी भी चित्र के धुंधले आने की संभावना कम हो। जब यह परीक्षण समाप्त हो जाता है, तो आपको तब तक इंतजार करने के लिए कहा जा सकता है जब तक कि रेडियोलॉजिस्ट सभी आवश्यक चित्र को देख न लें।


कैसा है फैशन का आपके मानसिक स्वास्थ्य पर असर


जोखिम
इसमें विकिरण के अत्यधिक संपर्क में रहने के कारण कैंसर होने का थोड़ा खतरा होता है। लेकिन, इससे सटीक निदान होने के कारण इसका लाभ जोखिम पर भारी पड़ता है। यदि इसमें किसी प्रकार की असमान्यता का पता चलता है, तो इसे दोबारा करने या बायोप्सी करने की जरूरत पड़ सकती है। गर्भवती महिलाओं को हमेशा अपने चिकित्सक को अपने गर्भवती होने की सही स्थिति के बारे में जानकारी दे दी जानी चाहिए।


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

<< Home