Monday, 11 November 2019

टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए एक्सरसाइज है जरूरी

टाइप टू डायबिटीज से पीड़ित ज्यादातर लोगों को इसकी जटिलताओं से बचने के लिए एक्सरसाइज करने की सलाह दी जाती है। आहार और दवा के साथ, एक्सरसाइज ब्लड शुगर के स्तर और वजन को कम करने में मदद करती है।
धीमी गति से शुरुआत करें 
हालांकि, नियमित एक्सरसाइज की बात कई लोगों को डरावनी लग सकती हैं। लेकिन अगर आपको अभी-अभी टाइप 2 डायबिटीज हुआ है, तो आपके लिए कभी-कभी एक्सरसाइज करने का कोई लाभ नहीं होगा। आप नियमित रूप से एक्सरसाइज करें और धीमी गति से इसकी शुरूआत करें।
एक्सरसाइज करने का प्रयास करें
अगर आप हर दिन 30 मिनट के लिए एक्सरसाइज करते हैं तो आप इस दौरान कई संक्षिप्त वर्कआउट कर सकते हैं। 30 मिनट नियमित रूप से एक्सरसाइज जिसमें स्ट्रेच शामिल हो आपके लिए सही होता हैं। 
दिन-भर की गतिविधियों पर ध्यान दें
एक्यसरसाइज का एक विशेष प्रकार अपनाने के साथ-साथ अपनी सामान्य गातिविधियों को भी बढ़ाये, जैसे चलना, सीढ़ियां चढ़ना आदि। हालांकि बहुत से लोगों को एकमात्र अभ्यास के रूप में घर के कामकाज या अन्य दैनिक गतिविधियों पर भरोसा नहीं होता है। लेकिन इस तरह की गतिविधियां भी एक्सरसाइज की तरह कैलोरी को जलाती है। 
पेडोमीटर का इस्तेमाल करें
पेडोमीटर का इस्तेमाल शारीरिक गतिविधि के लिए आदर्ष हो सकता है। पेडोमीटर पर एक दिन में 10,000 कदम का लक्ष्य रखना सही रहता है। भले ही आप अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाये। पेडोमीटर के इस्तेमाल से वजन कम करने में मदद मिलती है और रक्तचाप नियंत्रित रहता है। जो लोग पेडोमीटर का इस्तेमाल नहीं करते उन्हें प्रतिदिन 2500 से ज्यादा कदम चलना चाहिए। 
दोस्तों के साथ एक्सरसाइज करें
दोस्तों के साथ एक्सरसाइज करने पर बोरियत नहीं होती है। इसलिए विशेष रूप से 60 वर्श से अधिक उम्र के लोगों को दोस्तों के साथ ही एक्सरसाइज करना चाहिए।
लक्ष्य निर्धारित करें
अपने एक्सरसाइज के कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए विशिष्ट लक्ष्य निर्धारित करना बहुत जरूरी होता है। उदाहरण के लिए आप प्रत्येक सोमवार, बुधवार और शनिवार को 10 मिनट वॉकिंग का एक लक्ष्य निर्धारित कर सकते हैं। ऐसा करने से आप अपने लक्ष्यों को पाने की कोशिश करेंगे और आपको अधिक एक्यसरसाइज करने की प्रेरणा मिलेगी।
स्वयं को पुरस्कृत करें
एक्सरसाइज न करने पर क्या बुरा हो सकता है, इस बारे में सोचने की बजाय लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए स्वयं को पुरस्कृत करें। आप स्वयं को कह सकते हैं कि अगर मैं सप्ताह में तीन बार 10 मिनट एक्सरसाइज करता हूं तो अगले तीन सप्ताह के लिए मैं सप्ताह में पांच बार व्यायाम करूंगा। साथ ही अन्य लाभ जैसे वॉक के दौरान अधिक एनर्जी या आनंद को भी महसूस करें। 
संकेतों का सहारा लें
कई बार कई प्रकार के संकेतों से भी हम एक्सरसाइज के लिए स्वयं को उकसाते हैं। जैसे अपने फ्रिज पर एक नोट रखकर या टहलने के लिए जाने के लिए एक चेतावनी के रूप में पीछे के दरवाजे के बगल में अपने वॉंकिंग जूतों को रखने से एक्सरसाइज की संभावना ज्यादा होती है। 
रिकॉर्ड बनायें 
अपने लक्ष्यों के बारे में लिखें, इसमें विस्तृत जानकारी इकट्ठी करें और हर समय की गई एक्सरसाइज के बारे में रिकॉर्ड लिखें। जैसे आपने हर दिन 10 या 15 मिनट या अधिक एक्सरसाइज की हैं, इसके बारे में अपने कैलेंडर पर रिकॉर्ड रखें। इससे आपको अधिक एक्सरसाइज करने की प्रेरणा मिलेगी।
एक्सरसाइज क्लास का हिस्सा बनें
अगर आप घर में एक्सरसाइज नहीं करना चाहते तो एक्सरसाइज क्लास ज्वाइन कर सकते हैं। इस तरह से आपमें नियमितता आएगी, आप इंस्ट्रक्टर की निगरानी में एक्सरसाइज करेगें और आपात मदद के लिए किसी की सहायता भी ले पायेगें। साथ ही इंस्ट्रक्टर की मदद से एक्सरसाइज करने से आपको पता चलता है कि आपका शरीर कैसे प्रतिक्रिया करता है और बाद में आप स्वयं भी अधिक आत्मविश्वास के साथ इन एक्सरसाइज को कर सकते हैं। 
ऊंचा लक्ष्य निर्धारित न करें 
अपने लिये कम लक्ष्य निर्धारित करना और इसे सफल बनाना बेहतर होता है। इससे आत्मविश्वास की भावना बढ़ जाती है। एक बार कम लक्ष्य को पाने के बाद अगली बार अपने लक्ष्य को थोड़ा सा बढ़ा दें। छोटे लक्ष्यों से शुरुआत करने से सफल होने की संभावना अधिक रहती है। आसानी से लक्ष्य को प्राप्त करने के साथ धीरे-धीरे उनमें वृद्धि करें। 


No comments:

Post a Comment