जिम का ज्यादा शौक कमर के लिए खतरनाक हो सकता है

युवा पीढ़ी में जिस तेजी से जिम का शौक बढ़ रहा है उसके कारण उनमें कमर दर्द एवं रीढ़ में चोट (स्पाइन इंज्युरिज) की समस्या बढ़ रही है। दरअसल हमारे देश में ज्यादातर जिम में अप्रशिक्षित ट्रेनरों की देखरेख में लोग गलत तरीके से क्षमता से अत्यधिक वजन उठाते हैं जिसके कारण रीढ़ के चोटिल होने का खतरा बढ़ता है। अधिक जिम जाने तथा जिम में गलत तरीके से व्यायाम करने के कारण आज 16 से 30 साल के युवा भी रीढ़ की समस्याओं के ​शिकार बन रहे हैं। विभिन्न अस्पतालों में आने वाले मरीजों के क्लिनिकल अध्ययन के आधार पर कहा जा सकता है कि दस साल में 16 से 30 साल के आयु वर्ग में रीढ़ की समस्यायें दोगुनी बढ़ी हैं।
युवा पीढ़ी में खुद को फिट एवं चुस्त-दुरुस्त दिखने-दिखाने की प्रवृति बढ़ी है और वे कम उम्र से ही अपने पसंदीदा फिल्म स्टार की तरह का लुक पाने के लिये जिम में जाने लगते हैं और ट्रेनरों के बगैर या अप्रषिक्षित टेªनरों की निगरानी में व्यायाम शुरू कर देते हैं। अक्सर जिम में गलत तरीके से एवं गलत पाॅस्चर में खड़े होकर बहुत ज्यादा वजन उठाते हैं जिसके कारण रीढ़ के ऊत्तक टूटते हैं और आसपास की मांसपेषियां कमजोर हो जाती हैं। लंबे समय तक ऐसा करने से रीढ़ चोटिल हो जाती है। यह समस्या 16 से 18 वर्ष के युवकों को अधिक होती है, क्योंकि उनकी रीढ़ विकास की अवस्था में होती है।
जिम में वजन उठाने के दौरान अपनी पीठ को सीध में रखना चाहिये। इसके अलावा अपनी क्षमता से अधिक वजन नहीं उठाना चाहिये तथा यह व्यायाम प्रशिक्षित ट्रेनर की देखरेख में करना चािहये।


Comments