Thursday, 24 June 2021

आपके बच्चे के 'पहले हजार दिनों' को मजबूत करने के लिए जरूरी है स्तनपान

— डॉ शाची बवेजा, लैक्टेशन कंसल्टेंट, बाल चिकित्सा विभाग, बीएलके सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल।

किसी भी बच्चे के लिए ʺपहला हजार दिनʺ मां के गर्भधारण करने से लेकर बच्चे के दूसरे जन्म दिन तक का समय होता है। इसमें गर्भावस्था का समय और बच्चे के जीवन के पहले दो साल शामिल होते हैं।

इस अवधि में शरीर और मस्तिष्क दोनों का तेजी से विकास होता है। यह समय काफी महत्वपूर्ण और बच्चे की शारीरिक और मानसिक क्षमता को मजबूत करने वाला होता है, लेकिन साथ ही यह बहुत ही संवेदनशील समय भी होता है क्योंकि अगर चीजों को ठीक से प्रबंधित नहीं किया जाता है, तो इससे दीर्घकालिक परिणाम हो सकते हैं। यह अवधि हमें बच्चों को अधिक स्वस्थ बनाने और एक स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण करने का अनूठा अवसर प्रदान करती है।

इसके कई पहलू हैं, और इसमें पोषण की विशेष भूमिका है। इसलिए, गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान किसी महिला का पोषण और पहले 2 वर्षों में बच्चे का पोषण बच्चे के स्वास्थ्य की स्थिति को निर्धारित करता है, और अगर हम इसके व्यापक प्रभाव की बात करें तो यह राष्ट्र के विकास और समृद्धि को भी निर्धारित करता है।

इस प्रकार हर राष्ट्र के लिए एक बहुत ही स्मार्ट निवेश महिलाओं के स्वास्थ्य और पोषण में निवेश होगा (विशेषकर गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान), साथ ही स्तनपान को बढ़ावा देने, सुरक्षा प्रदान करने और समर्थन प्रदान करने और बच्चों को सही पूरक आहार देने के तरीकों के बारे में जानकारी प्रदान करना भी जरूरी है।

अगर कोई भी राष्ट्र इन में निवेश करने में विफल रहता है तो यह बहुत दुख की बात होगी!

दुनिया भर के आंकडों से पता चलता है कि माताओं और बच्चों के पोषण में सुधार के लिए किया गया प्रत्येक एक डॉलर का निवेश 35 डॉलर का रिटर्न देता है।

हमारा काम हमारे लिए कटआउट है, हमें माता और बच्चे के पोषण में निवेश करने की जरूरत है। हमारे शरीर के इष्टतम विकास, वृद्धि और प्रतिरक्षा के लिए शरीर को अच्छे पोषण की जरूरत होती है।

एक बच्चे के लिए उसके जीवन के पहले 6 महीने में इष्टतम पोषण उसकी अपनी माँ के दूध से ही मिलता है किसी और चीज से नहीं। इसके पीछे एक बहुत ही सरल तर्क है, कि माँ के दूध में बच्चे के 6 महीने तक के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते हैं।

एक नवजात शिशु को अपनी खुद की प्रतिरक्षा विकसित करनी होती है (वे कुछ प्रतिरक्षा के साथ पैदा होते हैं, जो वे गर्भावस्था के दौरान और बाद में माता से त्वचा से त्वचा के संपर्क में आने पर प्राप्त करते हैं), इसलिए जब तक बच्चा प्रतिरक्षा के अच्छे स्तर को प्राप्त नहीं कर लेता, तब तक माँ का दूध बच्चे को प्रतिरक्षा प्रदान करता है (और यह तब तक प्रदान करना जारी रखता है जब तक बच्चा स्तनपान जारी रखता है)।

स्तनपान न केवल तेजी से बढ़ते मस्तिष्क और शरीर के लिए उचित पोषण प्रदान करता है, बल्कि यह बच्चे को प्रतिरक्षा भी प्रदान करता है और इसके बारे में सबसे जादुई बात यह है कि यह प्रतिरक्षा गतिशील है, अर्थात बिना किसी अतिरिक्त खर्च के यह बच्चे की आवश्यकता के आधार पर बदलता है।

प्रकृति ने एक सुंदर, परिष्कृत और उच्च तकनीक प्रणाली बनाई है। इसलिए, जब माता को कोई संक्रमण होता है, तो वह अपने दूध में उस संक्रमण के खिलाफ एक पदार्थ (एंटीबॉडी) स्रावित करती है जो उस संक्रमण से उसे सुरक्षा प्रदान करता है। यही नहीं, यदि उसके बच्चे में कोई संक्रमण होता है, तो बच्चे की लार माँ के स्तनों के साथ संवाद करती है और माँ के स्तन स्तन दूध में सुरक्षात्मक पदार्थ (एंटीबॉडी) का उत्पादन शुरू कर देते हैं जो शिशुओं को उस संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं।

बच्चे के 6 माह के होने के बाद, बच्चे की आहार की आवश्यकता बढ़ जाती है और बच्चे के आहार में पूरक आहार को भी शामिल किया जाता है, साथ ही स्तनपान भी जारी रखा जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का सुझाव है कि बच्चे को कम से कम 2 वर्ष की आयु तक स्तनपान (उचित पूरक खाद्य पदार्थों के साथ) कराया जाना चाहिए ।

कोविड-19 महामारी के इस समय में यह बहुत अधिक प्रासंगिक और महत्वपूर्ण है। शोध हमें बताते हैं कि कोरोनो वायरस स्तन दूध के माध्यम से संचारित नहीं होते हैं और कोविड पॉजिटिव माताएं अपने स्तन दूध में सुरक्षात्मक एंटीबॉडी का स्राव करती हैं !!

लेकिन अफसोस की बात है कि देश भर से आने वाले आंकड़ों में हमारे स्तनपान दर में गिरावट देखी जा सकती है और इसके पीछे दो मुख्य कारण हैं, मिथक और डर जिसका संबंध कोरोना वायरस संक्रमण और तैयारियों की कमी से है।

अच्छी खबर यह है कि इसका इलाज संभव है। हम सभी को मां के कोविड से प्रभावित होने के बावजूद, माँ से बच्चे का तुरंत त्वचा से त्वचा संपर्क और स्तनपान के बारे में सार्वभौमिक (डब्ल्युएचओ, यूनिसेफ, बीपीएनआई, एसोसिएशन ऑफ लैक्टेशन प्रोफेशनल्स इंडिया, आईएलसीए, सीडीसी) सिफारिशों के बारे में जागरूकता पैदा करने की जरूरत है।

मैं समझता हूं कि इसमें सरकार और स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली की भूमिका है, लेकिन हम सभी इसमें एक बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। उन्हें गर्भावस्था में अपना ध्यान रखने, स्तनपान के महत्व के बारे में पढकर या ʺस्तनपान तैयारी कक्षाओंʺ में भाग लेकर स्तनपान के बारे में जानकारी प्राप्त करने या स्तनपान के बारे में अपने डॉक्टर से बात करने की आवश्यकता है। यदि वे स्तनपान में किसी भी चुनौती का सामना करती हैं तो वे जल्द से जल्द एक कुशल ʺलैक्टेशन प्रोफेशनलʺ की मदद लें।

यदि हम संक्षेप में कहें तो स्तनपान करने वाले बच्चे और माताएं स्वस्थ रहते हैं और उनकी प्रतिरक्षा की स्थिति बेहतर होती है। स्तनपान सुरक्षात्मक और अनुशंसित है, भले ही मां कोविड पॉजिटिव हो।









0 Comments:

Post a Comment

<< Home